Tue. Feb 7th, 2023
इलेक्ट्रिक व्हीकल रजिस्ट्रेशन में चौथे स्थान पर फिसली Ola Electric, मई के मुकाबले  जून में करीब 37 प्रतिशत घटे रजिस्ट्रेशन

ईवी रजिस्ट्रेशन में चौथे स्थान पर फिसली ओला इलेक्ट्रिक

Image Credit source: Ola Electric

ओला इलेक्ट्रिक के जून में रजिस्ट्रेशन मई के मुकाबले 36.5 प्रतिशत की गिरावट के साथ 5,874 पर आ गए हैं. ये संख्या अप्रैल में दर्ज हुई रिकॉर्ड 12,703 रजिस्ट्रेशन के मुकाबले आधी से भी कम है

इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर निर्माता ओला इलेक्ट्रिक (Ola Electric) ने सेग्मेंट में जितनी तेजी से टॉप पोजीशन हासिल की थी. कंपनी उतनी ही तेजी से नीचे भी आ गई है. मनीकंट्रोल ने सरकारी डैशबोर्ड वाहन के हवाले से जानकारी दी है कि जून 2022 में इलेक्ट्रिक व्हीकल (Electric Vehicle) रजिस्ट्रेशन के मामले में कंपनी फिसल कर चौथे स्थान पर पहुंच गई है. कंपनी के मुताबिक सप्लाई चेन पर असर पड़ने की वजह से रजिस्ट्रेशन पर भी असर पड़ा है. और ये गिरावट जून के महीने में सेल की किल्लत की वजह से दर्ज हुई है. वहीं जून के दौरान देश में कुल ईवी रजिस्ट्रेशन में बढ़त देखने को मिली है. जून के महीने में इलेक्ट्रिक व्हीकल के कुल रजिस्ट्रेशन 72,416 के स्तर पर पहुंच गए हैं. जो कि मई में 65,879 के स्तर पर थे. फिलहाल ईवी रजिस्ट्रेशन के मामले में ओकीनावा ऑटोटेक टॉप पोजीशन पर है.

कैसे रहे कंपनियों के आंकड़े

वाहन डैशबोर्ड के अनुसार ओला इलेक्ट्रिक के जून में रजिस्ट्रेशन मई के मुकाबले 36.5 प्रतिशत की गिरावट के साथ 5,874 पर आ गए हैं. ये संख्या अप्रैल में दर्ज हुई रिकॉर्ड 12,703 रजिस्ट्रेशन के मुकाबले आधी से भी कम है. वहीं 6,980 रजिस्ट्रेशन के साथ ओकीनावा ऑटोटेक नंबर एक की पोजीशन पर है. हालांकि इसकी रजिस्ट्रेशन में भी गिरावट रही है और ये मई के मुकाबले 25 प्रतिशत और अप्रैल के मुकाबले 36 प्रतिशत घटे हैं. ग्रीव्स इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के टू-व्हीलर ब्रांड एम्पीयर के रजिस्ट्रेशन में मई के मुकाबले 12 प्रतिशत की बढ़त दर्ज हुई है. और रजिस्ट्रेशन 6,541 पर पहुंच गए हैं.वहीं तीसरे स्थान पर हीरो इलेक्ट्रिक रही है जिसके माह के दौरान कुल रजिस्ट्रेशन 6,503 तक पहुंचे हैं. हीरो मोटोकॉप के द्वारा समर्थित एथर एनर्जी 3808 रजिस्ट्रेशन के साथ पांचवे स्थान पर रही है.

ये भी पढ़ें



आग लगने की घटनाओं से सेक्टर पर दबाव

ईवी सेक्टर में तेजी के बीच वाहनों में आग लगने की घटनाओं से सेक्टर पर काफी दबाव पड़ा है. सरकार ईवी को लगातार बढ़ावा दे रही है,. जिससे बिक्री में उछाल दर्ज हुआ है. हालांकि आग लगने की घटनाओं से लोगों के बीच ईवी को लेकर शंकाएं भी बढ़ी हैं. सरकार भी इस मामलें में सख्त हो गई है और अपने स्तर पर इन घटनाओं की जांच करा रही है. सरकार ने साफ कहा है कि अगर कंपनियां इन घटनाओं के लिए दोषी पाई जाती हैं तो उनपर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *