Mon. Jan 30th, 2023
किसानों की आय को दोगुनी करना सरकार के लिए शीर्ष प्राथमिकता है: पीयूष गोयल

किसानों की आय दोगुनी करना शीर्ष प्राथमिकता

Image Credit source: PTI

सरकार ने वर्ष 2017 में ही यह आश्वासन दिया था कि वह वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने में मदद करने का लक्ष्य लेकर चल रही है.

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने शुक्रवार को कहा कि किसानों के लिए अन्य कल्याणकारी उपायों की शुरुआत करने के साथ-साथ किसानों (farmer) की आय दोगुनी करना सरकार के लिए शीर्ष प्राथमिकता है. वाणिज्य और उद्योग मंत्री गोयल ने ‘ओपन नेटवर्क फॉर डिजिटल कॉमर्स’ (ओएनडीसी) और नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (नाबार्ड) की तरफ से आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, किसान, किसान कल्याण और उनकी आय को दोगुनी करना इस सरकार की शीर्ष प्राथमिकता रही है. सरकार ने वर्ष 2017 में ही यह आश्वासन दिया था कि वह वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने में मदद करने का लक्ष्य लेकर चल रही है.

आय में सालाना 10 प्रतिशत की ग्रोथ की जरूरत

सरकार के थिंक टैंक नीति आयोग ने वित्त वर्ष 2022-23 के अंत तक इस वादे को पूरा करने की रूपरेखा के साथ एक रिपोर्ट पेश की थी. विशेषज्ञों के अनुसार, इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए हर साल किसानों की आय में 10.41 प्रतिशत की वृद्धि करने की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्र की मदद से सरकार द्वारा चलाई जा रही ओएनडीसी पहल से पड़ोस के किराना या शॉपिंग स्टोर को मदद मिलेगी जो अमेज़ॅन जैसी बड़ी तकनीकी फर्मों से खतरा महसूस करते हैं. गोयल ने कहा, पड़ोस की किराना दुकानें आधुनिक, हाई प्रोफाइल दुकानों के साथ प्रतिस्पर्धा करेंगी और न केवल जीवित रह सकेंगी, बल्कि आगे चलकर अपनी आय भी बढ़ा सकेंगी.

ये भी पढ़ें



जून में बढ़ी एमएसपी

सरकार ने पिछले महीने ही फसल वर्ष 2022-23 के लिए खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में 4-9 प्रतिशत की वृद्धि की है, जहां धान का एमएसपी 100 रुपये बढ़ाकर 2,040 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है. सरकार का यह कदम, धान के रकबे में वृद्धि करने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने और उनकी आय बढ़ाने के ध्येय से प्रेरित है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) ने फसल वर्ष 2022-23 के लिए सभी तयशुदा 14 खरीफ (गर्मी) फसलों के लिए एमएसपी में वृद्धि को मंजूरी दी है. वर्ष 2022-23 के लिए सभी 14 फसलों का एमएसपी 2014-15 की तुलना में 46 से 131 प्रतिशत तक अधिक है. उदाहरण के लिए, धान (सामान्य किस्म) का एमएसपी 50 प्रतिशत बढ़ाकर 2,040 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है, जो 2014-15 में 1,360 रुपये प्रति क्विंटल था.सरकार ने ये बढ़ोतरी इसलिए की है जिससे किसानों की आय दोगुना की जा सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *