Wed. Aug 17th, 2022
किसानों की आय दोगुनी करना सरकार की शीर्ष प्राथमिकता, उनके हित में हो रहा काम- पीयूष गोयल

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि किसानों की आय बढ़ाने की दिशा में सरकार निरंतर कार्य कर रही है.

Image Credit source: TV9 (फाइल फोटो)

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने वर्ष 2017 में ही यह आश्वासन दिया था कि वह वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने में मदद करने का लक्ष्य लेकर चल रही है. सरकार के थिंक टैंक नीति आयोग ने वित्त वर्ष 2022-23 के अंत तक इस वादे को पूरा करने की रूपरेखा के साथ एक रिपोर्ट पेश की थी.

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि किसानों के लिए अन्य कल्याणकारी उपायों की शुरुआत करने के साथ-साथ किसानों की आय दोगुनी (Farmers Income) करना सरकार के लिए शीर्ष प्राथमिकता है. वाणिज्य और उद्योग मंत्री गोयल ने ‘ओपन नेटवर्क फॉर डिजिटल कॉमर्स’ (ओएनडीसी) और नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (नाबार्ड) की तरफ से आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि किसान, किसान कल्याण और उनकी आय को दोगुनी करना इस सरकार की शीर्ष प्राथमिकता रही है.

सरकार ने वर्ष 2017 में ही यह आश्वासन दिया था कि वह वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने में मदद करने का लक्ष्य लेकर चल रही है. सरकार के थिंक टैंक नीति आयोग ने वित्त वर्ष 2022-23 के अंत तक इस वादे को पूरा करने की रूपरेखा के साथ एक रिपोर्ट पेश की थी. विशेषज्ञों के अनुसार, इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए हर साल किसानों की आय में 10.41 प्रतिशत की वृद्धि करने की आवश्यकता होती है.

उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्र की मदद से सरकार द्वारा चलाई जा रही ओएनडीसी पहल से पड़ोस के किराना या शॉपिंग स्टोर को मदद मिलेगी जो अमेज़ॅन जैसी बड़ी तकनीकी फर्मों से खतरा महसूस करते हैं. गोयल ने कहा कि पड़ोस की किराना दुकानें आधुनिक, हाई प्रोफाइल दुकानों के साथ प्रतिस्पर्धा करेंगी और न केवल जीवित रह सकेंगी, बल्कि आगे चलकर अपनी आय भी बढ़ा सकेंगी.

’10 साल का लक्ष्य लेकर काम करने की जरूरत’

दूसरी तरफ, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि भारत अधिकांश कृषि उत्पादों के मामले में दुनिया में पहले नंबर पर है, वहीं इस स्थिति में उत्पादों की गुणवत्ता बनाए रखना और भी आवश्यक है. दुग्ध उत्पादन की दृष्टि से भारत आज विश्व में अग्रणी है, लेकिन हमें आगे भी निरंतर काम करते रहने की जरूरत है. इस बड़ी उपलब्धि में किसानों के परिश्रम व वैज्ञानिकों के अनुसंधान का अभूतपूर्व योगदान रहा है. आज हमारे देश में सभी प्रकार के साधन और ज्ञान-विज्ञान उपलब्ध हैं, ऐसे में आगे की प्रगति शीघ्रता से होनी चाहिए. दस वर्ष का एक लक्ष्य सामने रखकर काम करने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें



कृषि मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने देश की आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर कार्यक्रमों को जनकल्याण के लिए समर्पित किया है, जिसका एक उदाहरण है अमृत सरोवर (तालाब). पीएम के आह्वान पर देश के हर जिले में 75-75 अमृत सरोवर बनाए जा रहे हैं. इसी तरह मोदी ने योग की महत्ता को पूरे विश्व में प्रचारित-प्रसारित किया, परिणामस्वरूप हर 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाना शुरू किया गया और इस साल केंद्र सरकार के 75 मंत्री, आध्यात्मिक व ऐतिहासिक महत्व के हमारे देश के 75 चिन्हित स्थानों पर योग दिवस मनाने गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.