Sat. Jul 2nd, 2022
किसानों को महंगे कीटनाशकों से मिलेगा छुटकारा, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने शुरू की कवायद

कृषि मंत्री ने कहा कि कीटनाशकों से जीएसटी घटाने की मांग को वे वित्त मंत्री के समक्ष उठाएंगे.

Image Credit source: TV9 (फाइल फोटो)

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने फसल विविधीकरण की आवश्यकता पर जोर दिया और कहा कि किसानों को अधिक बागवानी और महंगी फसलें उगानी चाहिए. उन्होंने उत्पादन और फसल उत्पादकता बढ़ाकर कृषि को लाभदायक बनाने की बात भी कही.

किसानों (Farmers) को जल्द ही महंगी दरों पर कीटनाशक खरीदने से छुटकारा मिल सकता है. इसके लिए केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने कवायद शुरू कर दी है. उन्होंने कहा है कि वे वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के समक्ष कीटनाशकों पर जीएसटी 18 प्रतिशत से घटाकर 5 प्रतिशत करने की मांग को उठाएंगे. दरअसल, कृषि-रसायन उद्योग ने कीटनाशकों पर लगने वाले 18 प्रतिशत जीएसटी को कम करने की मांग की है. अपनी फसल को रोग और कीटों से बचाने के लिए किसान कीटनाशकों का छिड़काव करते हैं. 18 प्रतिशत जीएसटी होने के कारण उन्हें अधिक कीमत चुकानी पड़ती है.

कीटनाशकों पर जीएसटी घटाने की उद्योग की मांग पर तोमर ने कहा कि इस विषय से जुड़े मामले पर जीएसटी परिषद विचार कर रही है. उन्होंने कहा कि मैं आपकी मांग के बारे में वित्तमंत्री से मिलकर उन्हें अवगत कराऊंगा. तोमर ने कहा कि वह उद्योग की ओर से इस मुद्दे को वित्त मंत्रालय के समक्ष उठाएंगे लेकिन इस पर अंतिम फैसला जीएसटी परिषद करेगी. मंत्री फिक्की फसल संरक्षण समिति के अध्यक्ष आरजी अग्रवाल की मांग का जवाब दे रहे थे. उन्होंने उर्वरकों की तरह कीटनाशकों पर जीएसटी 18 प्रतिशत से घटाकर पांच प्रतिशत करने की मांग की थी. इससे लागत में कमी आएगी और फसल-संरक्षण रसायनों के उपयोग को बढ़ावा मिलेगा.

‘बागवानी और महंगी फसलें उगाएं किसान’

मंत्री ने फसल विविधीकरण की आवश्यकता पर जोर दिया और कहा कि किसानों को अधिक बागवानी और महंगी फसलें उगानी चाहिए. तोमर ने उत्पादन और फसल उत्पादकता बढ़ाकर कृषि को लाभदायक बनाने पर भी जोर दिया. इसके अलावा खेती के खर्चो को कम करने के साथ-साथ फसल कटाई के बाद के नुकसान को भी कम करने की आवश्यकता जताई. मंत्री ने कहा कि केंद्र, राज्यों के साथ मिलकर किसानों को नई प्रौद्योगिकियां उपलब्ध कराने का प्रयास कर रहा है.

उन्होंने यह भी कहा कि सरकार कृषक समुदाय की आय में सुधार के लिए 10,000 FPO (किसान उत्पादक संगठन) स्थापित करने की प्रक्रिया में है. मंत्री ने कहा कि देश खाद्यान्न उत्पादन में आत्मनिर्भर है, जबकि सरकार मिशन मोड में तिलहन और दलहन उत्पादन को बढ़ावा देने के प्रयास कर रही है.

ये भी पढ़ें



उर्वरकों और कीटनाशकों के बारे में बात करते हुए तोमर ने कहा कि इन फसल सुरक्षा उत्पादों के संतुलित उपयोग को बढ़ावा देने की जरूरत है. उन्होंने सहमति जताई कि भारत में उर्वरकों और कीटनाशकों का कोई अनुचित उपयोग नहीं है, लेकिन कीटनाशक उद्योग को वैकल्पिक उत्पादों पर काम करने के लिए कहा, क्योंकि किसान जैविक और प्राकृतिक खेती में भी रुचि ले रहे हैं. कृषि मंत्री तोमर ने कहा कि सरकार और उद्योग को छोटे और सीमांत किसानों को कृषि-रसायनों के लाभों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए मिलकर काम करना चाहिए. कृषि विज्ञान केंद्र (KVK) इस दिशा में काम कर रहे हैं, लेकिन ठोस प्रयास करने की जरूरत है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.