Tue. Feb 7th, 2023
टमाटर के इन उन्नक किस्मों की खेती करें किसान, होगी बंपर पैदावार तो बढ़ेगी कमाई

टमाटर की इन किस्मों से होगा बंपर उत्पादन

Image Credit source: File Photo

Tomato Farming: टमाटर की खेती से किसान अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं. अगर किसान टमाटर की उन्नत किस्म और खेती करने हैं तो उन्हें बंपर पैदावार हासिल होगी. इससे अगर दाम थोड़े कम भी मिले तो उन्हें नुकसान नहीं होगा. किसान भाई हमेशा यह ध्यान रखें कि टमाटर को रोगो रोधक किस्मों का ही चयन करें.

देश के कई राज्यों में इस वक्त टमाटर 60 से 80 रुपए प्रति किलो की दर से बिक रहा है. किसान और जानकार मानते हैं कि अगर टमाटर की पैदावार (Tomato Cultivation) अच्छी हो और अगर बाजार में इसके भाव 10 रुपए प्रति किलो के दर से भी मिले तो किसानों को इसमें नुकसान नहीं होता है.क्योंकि यह वजनदार होता है. टमाटर एक ऐसी सब्जी है जिसकी मांग सालोंभर रहती है. अलग-अलग सीजन के लिए अलग-अलग किस्म के टमाटर भी आते हैं. ऐसे में टमाटर की खेती (Tomato Farming) करने वाले किसानों (Farmers) को यह जानना बेहद जरूरी है कि टमाटर की कौन सी किस्म की खेती करें, ताकि पैदावार अच्छी हो सके और किसानों की कमाई बढ़ सकें.

टमाटर की अधिक पैदावार सुनिश्चित करने के लिए किसानों को सबसे पहले इसकी खेती के तरीकों पर खास ध्यान देना चाहिए. खेत की जुताई से लेकर बेड तैयार करने तक और फिर दो पौधों के बीच की दूरी और उसपर डाले जाने वाले खाद और और कीटनाशकों का भी टमाटर की उच्च पैदावार हासिल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. इसके अलावा मिट्टी की पीएच, मिट्टी में पोषक तत्वों की जांच भी करनी चाहिए. टमाटर की खेती में उच्च पैदावार हासिल करने के लिए नाइट्रोजन और पोटेशियम बेहद जरूरी है.

प्रति हेक्टेयर बंपर उत्पादन देगी अर्का रक्षक

अर्का रक्षक टमाचर की अधिक उपज वाली एक ऐसी वेरायटी है जिसे दो हाइब्रीड किस्मों को क्रॉस करने तेयार किया गया है. इसका फल गोल होता है और गहरे लाल रंग होने के साथ-साथ यह काफी मजबूत होता है. यह लंबे समय तक ताजा रहता है और प्रसंस्करण के लिए उपयुक्त माना जाता है. इसके अलावा इसमें रोग प्रतिरोधक क्षमता भी होती है. 140 दिनों में इसकी उपज 75-80 टन प्रति हेक्टेयर प्राप्त की जा सकती है.

गर्म और नमी वाली जलवायु के लिए उपयुक्त है वैशाली

यह टमाटर की एक हाइब्रीड किस्म है जो मध्यम आकार का होता है. इसका वजन 100 ग्राम तक का होता है. गर्म और आद्र जलवायु में खेती करने के लिए वैशाली नस्ल को काफी बेहतर माना जाता है. इसमें फुसेलियम और वर्टिसिलय विल्ट नामक रोग की प्रतिरोधन क्षमता होती है. यह टमाटर रस बनाने के लिए काफी बेहतर माना जाता है. रस उद्योग में इसकी अच्छी मांग होती है.

ये भी पढ़ें



इन किस्मों का भी कर सकते हैं चयन

इसके अलावा अर्का वरदानी भी अधिक उपज देने वाली टमाटर की किस्म है. इसका वजह 140 ग्राम तक होता है. हालांकि इसे पकने में वक्त लगा है. रुपाली भी मध्यम आकार की एक अच्छी किस्म है. इतना ही नहीं भारत में रश्मि कम समय में तैयार होने वाली किस्म है. जबकि अर्का विशाल किस्म की टमाटर का उपयोग सलाह के लिए होगा है. वहीं पूसा 120, सह 1 भी टमाटर की अच्छी किस्में हैं जिनकी खेती से किसान बंपर कमाई कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *