Wed. Feb 8th, 2023
नूपुर शर्मा ने अपने नाम के बजाय NV शर्मा नाम से सुप्रीम कोर्ट में क्यों दाखिल की याचिका? जजों ने भी उठाए सवाल, आखिर क्या है वजह

नूपुर शर्मा ने एनवी शर्मा नाम से याचिका दायर की

Image Credit source: File Photo

Nupur Sharma Supreme Court: पैगंबर मोहम्मद पर दिए बयान के कारण बीजेपी से निलंबित होने वाली नूपुर शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में एनवी शर्मा के नाम से याचिका दायर की थी. इसपर कोर्ट ने भी सवाल खड़े किए हैं.

बीजेपी की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा की पैगंबर मोहम्मद (Nupur Sharma Propeht Mohammad Statement) को लेकर की गई टिप्पणी से पैदा हुआ तूफान अब भी थमा नहीं है. एक दिन पहले देश के सुप्रीम कोर्ट ने इसकी काफी निंदा की. उन्होंने शर्मा की इसी बात को उदयपुर हिंसा तक के लिए जिम्मेदार ठहरा दिया. दरअसल सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) नूपुर शर्मा की एक याचिका पर सुनवाई कर रहा था, जिसमें उनके खिलाफ देशभर में दर्ज मामलों को दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग की गई थी. आखिर में याचिका को कोर्ट की मंजूरी के बाद वापस ले लिया गया था. लेकिन इस बीच जो हैरान करने वाली बात सामने आई, वो ये थी कि नूपुर शर्मा ने याचिका को अपने नाम से नहीं बल्कि एनवी शर्मा के नाम से दायर किया था.

नूपुर शर्मा के वकील मनिंदर सिंह बहस शुरू करते, इससे पहले दो जजों की पीठ में शामिल जस्टिस सूर्यकांत ने एनवी शर्मा के नाम से दायर याचिका पर ही सवाल खड़े कर दिए. उन्होंने सवाल किया कि शर्मा ने ‘डिसेप्टिव नेम’ से याचिका को क्यों दायर नहीं किया. सुनवाई करने वाले बेंच के दूसरे जज जेबी पारदीवाला थे. इन्होंने दिल्ली पुलिस की जांच तक पर सवाल खड़े किए थे. और कहा कि टेलीविजन पर आपत्तिजनक बयान दिए जाने के बाद भी नूपुर शर्मा को क्यों गिरफ्तार नहीं किया गया. कोर्ट ने इतना तक कह दिया कि नूपुर शर्मा को टीवी पर आकर देश से माफी मांगनी चाहिए.

क्यों दूसरे नाम से दायर की याचिका?

अब याचिका को नूपुर शर्मा द्वारा अपने नाम से दायर नहीं करने के मसले पर बात करते हैं. दो सदस्यों की सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने जब पूछा कि याचिका को एनवी शर्मा के नाम से क्यों दायर किया गया है. इसपर नूपुर शर्मा के वकील ने कहा कि उन्हें (नूपुर शर्मा) पैंगबर मोहम्मद पर की गई टिप्पणी के बाद से धमकियां मिल रही हैं, जिसके चलते उन्होंने याचिका एनवी शर्मा के नाम से दायर की. इस दलील पर कोर्ट ने एक और सख्त टिप्पणी कर दी. उसने कहा कि ‘उन्हें कोई खतरा है या फिर वह खुद ही सुरक्षा के लिए खतरा बन गई हैं?’ इसके बाद नूपुर शर्मा को लेकर एक के बाद एक तीखी टिप्पणी की गई. पीठ ने सवाल पूछा कि नूपुर शर्मा ने भ्रम में डालने वाले नाम से याचिका क्यों दायर की है. बाद में जब मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आदेश पारित किया, तो उसे भी एनवी शर्मा के नाम से ही किया गया. क्योंकि इसी नाम से मामले को सूचीबद्ध किया गया था.

ये भी पढ़ें



ऐसा कहा जा रहा है कि एनवी शर्मा का मतलब नूपुर विनय शर्मा है. विनय शर्मा नूपुर शर्मा के पिता का नाम हैं. सुप्रीम कोर्ट ने राहत के तौर पर शर्मा को उन राज्यों के हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाने को कहा है, जहां उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज हैं. बता दें नूपुर शर्मा ने एक टीवी डिबेट के दौरान पैगंबर मोहम्मद को लेकर बयान दिया था. जिसका देश दुनिया में खूब विरोध हुआ. उन्हें बीजेपी ने पार्टी से निलंबित कर दिया था. उनके खिलाफ देश के कई राज्यों में शिकायत दर्ज हुई है लेकिन अभी तक गिरफ्तारी नहीं की गई. कई जगह उनकी टिप्पणी को लेकर विरोध प्रदर्शन हुए, कुछ जगहों पर हिंसा तक हो गई. हाल में ही राज्यस्थान के उदयपुर में एक शख्स की बेरहमी से हत्य कर दी गई. सुप्रीम कोर्ट ने इस घटना को नूपुर शर्मा के बयान से जोड़ा. कोर्ट ने कहा कि नूपुर शर्मा की टिप्पणी के चलते उदयपुर जैसी घटना हो रही हैं और देश का माहौल बिगड़ रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *