Sat. Jul 2nd, 2022
पाकिस्तानी खिलाड़ियों की सैलरी बढ़ी, बाबर आजम की आई 'मौज', विदेशी लीग में नहीं खेलने वालों को मिलेगा 'इनाम'

पीसीबी के सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट का ऐलान, बाबर आजम की बल्ले-बल्ले

Image Credit source: AFP

PCB Central Contract: पाकिस्तान क्रिकेट टीम के सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट का ऐलान, टॉप खिलाड़ियों को विदेशी लीग में खेलने से रोकने के लिए अलग पैसा देगी पीसीबी. बाबर आजम को मिलेगा कप्तानी भत्ता

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने शुक्रवार को अपने खिलाड़ियों के लिये टेस्ट और सीमित ओवरों के अलग-अलग सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट (PCB Central Contract) की घोषणा की जिसमें खिलाड़ियों की सैलरी बढ़ाई गयी है. हालांकि पीसीबी अपने टॉप खिलाड़ियों को विदेशी लीग में खेलने से रोकने की कोशिश करेगा जिसके लिये वह अतिरिक्त भुगतान करने को भी तैयार है. पीसीबी ने कहा कि बोर्ड ऑफ गवर्नर्स की बैठक में वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए 15 अरब रुपये के वार्षिक बजट को मंजूरी दी गई है, जिसमें 78 प्रतिशत क्रिकेट गतिविधियों के लिये आवंटित किया गया है. पीसीबी ने बयान में कहा, ‘अपने टॉप क्रिकेटरों को प्रोत्साहित करने और अन्य देशों के खिलाड़ियों की तुलना में वेतन में अंतर को कम करने की अपनी रणनीति के तहत बोर्ड ऑफ गवर्नर्स ने पुरुषों के केंद्रीय अनुबंध ढांचे में बदलाव को मंजूरी दी है.’

पीसीबी के सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट में बदलाव

पीसीबी की सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट की नयी नीति के तहत एक जुलाई से लाल गेंद (टेस्ट) और सफेद गेंद (वनडे और टी20) के अलग अलग अनुबंध दिये जाएंगे जिसमें कॉन्ट्रैक्ट के पैसे में बढ़ोतरी होगी. यही नहीं केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ियों की संख्या 20 से बढ़ाकर 33 कर दी गई है. इसके अलावा पीसीबी ने सभी प्रारूपों में मैच फीस में 10 प्रतिशत और सहयोगी स्टाफ के सदस्यों की मैच फीस में 50 से 70 प्रतिशत तक की वृद्धि की घोषणा की. कप्तान की अतिरिक्त जिम्मेदारियों को देखते हुए कप्तानी भत्ता भी शुरू किया गया है.

पीसीबी अपने खिलाड़ियों को विदेशी लीग में खेलने से रोकना चाहती है

पीसीबी अध्यक्ष रमीज राजा ने लाहौर में प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह भी घोषणा की कि बोर्ड ने उन मौजूदा खिलाड़ियों के लिये विशेष कोष भी स्थापित किया है, जिन्हें विदेशी लीग में खेलने के प्रस्ताव मिलते हैं. राजा ने कहा, ‘हम अपने शीर्ष खिलाड़ियों को सत्र से अलग अतिरिक्त प्रतियोगिताओं में खेलने को लेकर हतोत्साहित करना चाहते हैं. हमें लगता है कि खिलाड़ियों के लिये यही बेहतर होगा कि वे इन लीग में नहीं खेलें. हम जरूरत पड़ने पर उन्हें अनुबंध की राशि का 50 से 60 प्रतिशत भुगतान करने के लिये तैयार हैं.’

Leave a Reply

Your email address will not be published.