Tue. Feb 7th, 2023
बांग्लादेश की वजह से प्याज किसानों को मिल सकती है राहत, जानिए क्या है मामला

क्या बांग्लादेश को भारत करेगा प्याज़ एक्सपोर्ट?

Image Credit source: TV9 Digital

Onion Export: जुलाई से शुरू हो सकता है बांग्लादेश को प्याज का एक्सपोर्ट. प्याज उत्पादक किसानों का कहना है कि इससे प्रति किलो 4 रुपये तक बढ़ सकता है दाम. दाम की कमी झेल रहे किसानों को मिलेगी राहत.

महाराष्ट्र में प्याज की खेती करने वाले किसानों के खराब दिन अब खत्म होने वाले हैं. पिछले तीन महीन से प्याज के गिरते दाम की वजह से संकट में फंसे किसानों के लिए राहत की खबर है. महाराष्ट्र राज्य प्याज उत्पादक संगठन के अध्यक्ष भारत दिघोले का कहना है कि 2 जुलाई से बांग्लादेश में भारतीय प्याज का निर्यात (Onion Export) सुचारू रूप से फिर से शुरू हो सकता है. ऐसा हुआ तो किसानों को अच्छा दाम मिलने लगेगा. क्वालिटी के हिसाब से 2 से 4 रुपये प्रति किलो तक दाम में इजाफा हो सकता है. अभी ज्यादातर मंडियों में किसानों को प्याज का दाम (Onion Price) न्यूनतम दाम 1 से 5 रूपये किलो के हिसाब मिल रहा है. जबकि लागत इससे कहीं बहुत अधिक है. इस वजह से किसान परेशान हैं.

जिन किसानों के पास स्टोरज की सुविधा है उन्होंने प्याज़ का स्टॉक कर लिया है. ऐसे किसानों को अच्छा दाम मिलने की संभावना है. एक्सपोर्ट बढ़ेगा तो फिर दाम में इजाफा होगा. जिन किसानों के पास स्टोरेज की सुविधा नहींं है वो बारिश को देखते हुए फटाफट प्याज बेच देना चाहते हैं. इस मजबूरी का फायदा व्यापारी उठा रहे हैं और कम दाम दे रहे हैं. दिघोले का कहना है कि सिर्फ 10 फीसदी किसानों के पास ही स्टोरेज की सुविधा है.

प्याज उत्पादक संगठन ने किसानों से की ये अपील

दिघोले ने बताया कि प्याज एक्सपोर्ट होने की खबर से किसानों को कुछ राहत मिली है. बांग्लादेश ने भारत से प्याज़ आयात की अनुमति दी है. पिछले 3 महीनों से बांग्लादेश ने भारतीय प्याज के आयात को रोक दिया था. संगठन ने अब राज्य के प्याज़ उत्पादकों से अपील की है कि किसान (Farmer) ध्यान रखें कि एक ही समय में बाजार में अधिक प्याज़ की आवक न हो. आवक कम होगी तो व्यापारियों पर दाम बढ़ाने का दबाव बढ़ेगा. इसलिए जितना हो सके प्याज को रोक कर रखें. उच्च गुणवत्ता वाले प्याज का चयन करें और अपने प्याज को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में मंडी ले जाएं. बांग्लादेश को एक्सपोर्ट और कम आवक की वजह से दाम में वृद्धि होगी.

ये भी पढ़ें



एक्सपोर्ट से किसानों कितना होगा लाभ?

भारत प्याज का बड़ा उत्पादक और एक्सपोर्टर है. महाराष्ट्र करीब 40 फीसदी प्याज अकेले पैदा करता है. इसलिए दाम पर उतार-चढ़ाव का सबसे ज्यादा असर यहीं के किसानों पर देखने को मिलता है. ऐसे में यहां के किसान एक्सपोर्ट से काफी उम्मीद पाले हुए हैं. दिघोले ने बताया कि बांग्लादेश ने प्याज की मांग की है.हालांकि अभी वो भारत के फैसले के इंतजार कर रहे हैं. इस निर्यात से यकीनन किसानों को प्याज़ की कीमतों में 2 से 4 रुपये की बढ़ोत्तरी हो सकती है. ऐसे समय में जब प्याज़ के दामों में भारी गिरावट हो तो 200 से 400 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि बहुत राहत देगी. साथ में व्यापारियों पर दबाव बना रहेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *