Sat. Jul 2nd, 2022
मायावती राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए का साथ देकर द्रौपदी मुर्मू की राह करेंगी आसान! विपक्षी दलों की बैठक से बनाई थी दूरी

बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती

Image Credit source: PTI

एनडीए की प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू ने आज अपना नामांकन दाखिल कर दिया है. लेकिन बीजेपी का मानना है उनकी राह बीएसपी आसान कर सकती है. बताया जा रहा है कि समर्थन जुटाने के लिए बीजेपी के प्रबंधक बीएसपी प्रमुख मायावती (Mayawati) के संपर्क में है.

राष्ट्रपति चुनाव (president election) को लेकर सरगर्मी तेज हो गई है और 18 जुलाई को वोटिंग होनी है. आज एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) ने अपना नामांकन दाखिल कर लिया है और राष्ट्रपति बनने के लिए उन्हें महज 12000 अतिरिक्त वोटों की जरूरत होगी. बीजू जनता दल और वाईएसआर कांग्रेस ने द्रोपदी मुर्म को अपना समर्थन देने का ऐलान कर दिया है. उसके बावजूद एनडीए को अतिरिक्त वोटों की जरूरत होगी. लिहाजा एनडीए का सबसे बड़ा घटक दल बीजेपी, बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती (Mayawati) की तरफ उम्मीदों के साथ देख रहा है. राष्ट्रपति चुनाव में यूपी के सांसदों और विधायकों का सबसे ज्यादा वेटेज होता है.

एनडीए की प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू ने आज अपना नामांकन दाखिल कर दिया है. लेकिन बीजेपी का मानना है उनकी राह बीएसपी आसान कर सकती है. लिहाजा बीजेपी के प्रबंधन बीएसपी नेतृत्व के संपर्क में है. माना जा रहा है कि मायावती द्रोपदी मुर्मू को अपना समर्थन देंगी. क्योंकि पिछले दिनों विपक्षी दलों द्वारा बुलाई गई बैठक से मायावती ने दूरी बना कर रखी थी. जिसे विपक्षी दलों के लिए बड़ा झटका माना जा रहा था. लिहाजा माना जा रहा है कि मायावती पार्टी का समर्थन द्रोपदी मुर्मू को दे सकती हैं. हालांकि अभी तक आधिकारिक तौर पर बीएसपी की तरफ से इस बारे में खुलासा नहीं किया गया है. बताया जा रहा है कि राष्ट्रपति की प्रत्याशी मुर्मू आने वाले दिनों में राज्यों का दौरा कर नेताओं से उनका समर्थन मांगेगी. वह बीएसपी चीफ मायावती से भी मुलाकात कर सकती हैं.

मायावती ने पिछले दिनों ममता की बैठक से बनाई दूरी

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने हाल ही में विपक्षी दलों की बैठक बुलाई थी. ताकि विपक्ष दलों के राष्ट्रपति के प्रत्याशी यशवंत सिन्हा की जीत की राह आसान की जा सके. लेकिन बीएसपी सुप्रीमो मायावती इसमें शामिल नहीं हुई थीं.

ये भी पढ़ें



जानिए कितना है बीएसपी के वोटों का वेटेज

बीएसपी के पास लोकसभा में 10 सांसद हैं और उनके वोट का कुल वेटेज 7000 होता है. इसके साथ ही यूपी विधानसभा में बीएसपी का एक विधायक है और उसका वेटेज 208 है. इस आधार पर बीएसपी का कुल वेजेट 7208 हो जाता है. लिहाजा अगर बीजेपी मायावती को साधने में सफल हो जाती है तो द्रोपदी मुर्मू की राष्ट्रपति की राह काफी हद तक आसान हो जाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.