Wed. Feb 8th, 2023
वाइल्ड लाइफ कंजर्वेटिव हैं उद्धव के छोटे बेटे तेजस, 'ठाकरे परिवार' से जोड़ा था केकड़े और सांपों की नई प्रजाति का नाम

वाइल्ड लाइफ कंजर्वेटिव हैं उद्धव के छोटे बेटे तेजस

Image Credit source: PTI

तेजस ठाकरे वाइल्ड लाइफ कंजर्वेटिव हैं. तेजस ठाकरे कल उस वक्त चर्चा में आए, जब वह पिता उद्धव ठाकरे के साथ राजभवन जाते हुए कार की आगे की सीट पर बैठे थे. ठाकरे मर्सिडीज कार चलाते हुए राजभवन पहुंचे थे.

महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे चुके उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के बड़े बेटे आदित्य ठाकरे राजनीति में सक्रिय हैं. वह महा विकास अघाणी सरकार में मंत्री भी बने. लेकिन क्या आपको उद्ध ठाकरे के छोटे बेटे तेजस ठाकरे (Tejas Thackeray) के बारे में पता है? तेजस ठाकरे वाइल्ड लाइफ कंजर्वेटिव हैं. तेजस ठाकरे कल उस वक्त चर्चा में आए, जब वह पिता उद्धव ठाकरे के साथ राजभवन जाते हुए कार की आगे की सीट पर बैठे थे. ठाकरे मर्सिडीज कार चलाते हुए राजभवन पहुंचे थे और उनके साथ उनके बेटे आदित्य और तेजस के साथ-साथ उनकी पत्नी रश्मि ठाकरे भी मौजूद थीं. तेजस फिलहाल राजनीति में सक्रिय नहीं है. तेजस आज से छह साल पहले उस वक्त चर्चा में आए थे, जब उन्होंने केकड़े की नई प्रजाति का नाम ‘ठाकरे परिवार’ के नाम पर रखा था.

तेजस ने साल 2016 में महाराष्ट्र के वेस्टर्न घाटों पर केकड़े की नई प्रजातियों की खोज की थी. इसके बाद उन्होंने केकड़े का नाम ‘गूबनट्रियाना ठाकरे’ रखा. यह केकड़ा लाल रंग का था और इसे तेजस ठाकरने नेवेस्टर्न घाट के सहयाद्री रेंज में बसे सिंधदुर्ग जिले के सावंतवाड़ी में खोजा था. इस शोध में तेजस के साथ उनके दो साथी डॉ एस.के पाटिल और अनिल खरे भी शामिल थे. बताया जाता है कि डॉ एसके पाटिल ‘जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया’ से जुड़े हुए हैं और उन्होंने इन शोध के दौरान तेजस की काफी मदद की. इससे पहले तीनों ने मिलकर ऑरेंज, मैटेलिक ब्लू, सफेद और डार्क ऑरेंज रंग समेत पांच केकड़े भी खोजे थे.

पहले ‘गूबनट्रियाना रूबरा’ रखा जा रहा था नाम

कहा जाता है कि तेजस ठाकरे ने इस लाल रंग के केकड़े का नाम ‘गूबनट्रियाना रूबरा’ रखने की सलाह दी थी. लेकिन डॉ पाटिल ने इसका नाम तेजस के परिवार से जोड़ने का सजेशन दिया. बाद में इसका नाम ‘गूबनट्रियाना ठाकरे’ रखा गया. दुनिया भर में केकड़ों की सौ से ज्यादा प्रजातियां हैं और यह अन्य समुद्री जीवों की तुलना में केकड़े अलग-अलग तरह के वातावरण में रह सकते हैं. केकड़ों की इन नई प्रजातियों के बारे में बात करते हुए तेजस ने कहा था कि ये नई प्रजातियां इसलिए भी खास हैं, क्योंकि इनका रंग-रूप बाकियों से बिलकुल अलग है.

सांपों की प्रजाति का नाम भी ठाकरे परिवार पर रखा था.

साल 2019 में तेजस ठाकरे ने पश्चिमी घाट में सांपों की एक नई प्रजाति की खोज की थी और इसका नाम भी उन्होंने ठाकरे परिवार के नाम पर रखा था. पुणे स्थित फाउंडेशन फॉर बायोडायवर्सिटी कंजर्वेशन के निदेशक वरद गिरी ने बताया था कि यह प्रजाति आमतौर पर कैट स्नेक कहलाने वाली श्रेणी में आती है और बोइगा जीनस से संबंधित है.

ये भी पढ़ें



गिरी ने कहा कि नई प्रजाति का नाम ‘बोइगा ठाकरे’ रखा गया था, क्योंकि इस शोध में तेजस ठाकरे ने अपना अहम योगदान दिया था. तेजस के बड़े भाई आदित्य ठाकरे ने ट्विटर पर सांप की एक तस्वीर पोस्ट की थी.नई प्रजाति पश्चिमी महाराष्ट्र में सतारा जिले के कोयना क्षेत्र में पाई गई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *