Wed. Feb 8th, 2023
वायनाड के कार्यालय पर हुए हमले की राहुल गांधी ने की निंदा, कहा- हिंसा से कभी समस्या का समाधान नहीं होता

वायनाड के कार्यालय पर हुए हमले की राहुल गांधी ने की निंदा

Image Credit source: PTI

बता दें कि राहुल गांधी तीन दिन की यात्रा पर केरल पहुंचे हुए हैं. अपने तीन दिवसीय दौरे के दौरान कांग्रेस नेता मनांथावडी में किसान बैंक में एक भवन का उद्घाटन करेंगे और बाथेरी में यूडीएफ बहुजन संगम में भी हिस्सा लेंगे. इसके साथ ही वह वायनाड में कई कार्यक्रम में भी हिस्सा लेंगे.

पिछले हफ्ते कलपेट्टा में राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के ऑफिस में हुई तोड़फोड़ की निंदा करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा, यह वायनाड (Wayanad) के लोगों का कार्यालय है. जो हुआ वह दुर्भाग्यपूर्ण है. हिंसा से कभी समस्या का समाधान नहीं होता. ऐसा करने वाले लोगों ने गैर-जिम्मेदाराना तरीके से काम किया. मेरी उनसे कोई दुश्मनी नहीं है. देश में माहौल सत्ताधारी सरकार ने बनाया है. बता दें कि राहुल गांधी तीन दिन की यात्रा पर केरल पहुंचे हुए हैं. अपने तीन दिवसीय दौरे के दौरान कांग्रेस नेता मनांथावडी में किसान बैंक में एक भवन का उद्घाटन करेंगे और बाथेरी में यूडीएफ बहुजन संगम में भी हिस्सा लेंगे. इसके साथ ही वह वायनाड में कई कार्यक्रम में भी हिस्सा लेंगे.

इससे पहले राहुल गांधी ने वायनाड में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि आज हमारे किसानों और खेती को नजरअंदाज किया जा रहा है. किसानों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया है. किसानों की स्थिति लगातार खराब होती जा रही है और केंद्र में बैठी सरकार किसानों पर ध्यान नहीं दे रही है. सरकारों को हमारे किसानों और खेती की रक्षा के लिए काम करना चाहिए.

गैर-जिम्मेदाराना तरीके से किया गया काम

बता दें कि राहुल गांधी की वायनाड यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब एक हफ्ते पहले ही कलपेट्टा में उनके ऑफिस को एसएफआई कार्यकर्ताओं ने निशाना बनाया है. एसएफआई के कार्यकर्ता पहले राहुल गांधी के कार्यालय के पास ही अपना विरोध दर्ज करा रहे थे लेकिन कुछ देर बाद ही काफी लोग उनके कार्यालय में पहुंच गए और तोड़फोड़ शुरू कर दी. बताया जा रहा है एसएफआई कार्यकर्ताओं के एक गुट ने राहुल के ऑफिस में घुसकर तोड़फोड़ की थी.

ये भी पढ़ें



कांग्रेस ने सत्तारुढ़ दल पर लगाए गंभीर आरोप

राहुल गांधी के कार्यालय पर हुए हमले को लेकर कांग्रेस ने सत्तारुढ़ दल पर गंभीर आरोप लगाए हैं. कांग्रेस नेताओं का कहना है कि मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन की जानकारी में राहुल गांधी के कार्यालय में तोड़फोड़ की गई. हमले के बाद भी मुख्यमंत्री ने इस घटना पर कोई कार्रवाई नहीं की बाद में जब उनके ऊपर दबाव बना तब उन्होंने आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात कही. इसके बाद उन्होंने इस पूरे मामले में उच्च स्तरीय जांच के आदेश भी दिए गए. यही नहीं कलपेट्टा के एक सब-इंस्पेक्टर को भी मामले में ढिलाई बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *