Mon. Jan 30th, 2023
हैदराबाद में 2-3 जुलाई को BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, दक्षिणी राज्यों की सियासत से वंशवाद के खात्मे पर मास्टर प्लान तैयार!

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा. (फाइल फोटो)

अबतक तेलंगाना समेत दक्षिण भारत की राजनीति परिवार आधारित रही है. तेलंगाना में केसीआर हों, आंध्र में जग्गन रेड्डी या तमिलनाडु में करुणानिधि परिवार इन राज्यों की राजनीति इन्ही के इर्द गिर्द घूमती है.

महाराष्ट्र के बाद बीजेपी (BJP) की नजर अब दक्षिणी राज्यों खासकर तेलंगाना पर है, जहां शनिवार को उनकी 2 दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू होगी. हैदराबाद के इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर में 2 दिनों तक चलने वाली इस बैठक में 2024 लोकसभा और उससे पहले होने वाले तेलंगाना समेत सभी विधानसभा चुनावों पर रणनीति बनाई जाएगी.

अबतक तेलंगाना समेत दक्षिण भारत की राजनीति परिवार आधारित रही है. तेलंगाना में केसीआर हों, आंध्र में जग्गन रेड्डी या तमिलनाडु में करुणानिधि परिवार इन राज्यों की राजनीति इन्ही के इर्द गिर्द घूमती है. लिहाजा सम्भव है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार्यकारिणी के अपने उद्बोधन में परिवारवाद और परिवारवादी राजनीतिक पार्टीयों पर हमला कर सकते हैं. पीएम लगातार राजनीति में हाबी परिवारवाद पर हमलावर रहे हैं वो चाहे बात बीजेपी संसदीय दल की बैठक हो या जयपुर में बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के ऑफिस मीटिंग. पीएम ने हर जगह राजनीति में परिवारवाद के खिलाफ कड़ा रुख अख्तियार किया और इसको समाज के लिए घातक करार दिया.

वंशवाद के खिलाफ नारा देंगे PM मोदी

कार्यकारिणी बैठक में बीजेपी वंशवाद मुक्त भारतीय राजनीति का नारा भी दे सकती है. आखिरी दिन होने वाली रैली में पीएम मोदी समेत बीजेपी के आला नेता वंशवाद की राजनीति के खिलाफ जोरदार नारा दे सकते हैं. दक्षिण भारत की राजनीति के लिहाज से बीजेपी तेलंगाना पर बहुत फोकस कर रही है. विगत स्थानीय निकायों और लोकसभा, विधानसभा चुनावों में मिली सफलता को ध्यान में रखकर बीजेपी प्रदेश में पूरा ताकत झोंक रही है.

तेलंगाना को लेकर बीजेपी की गंभीरता को इस बात से समझा जा सकता है कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक से 2 दिन पहले से 119 कार्यकारिणी सदस्यों को राज्य के 119 विधानसभा क्षेत्रों में 48 घंटे और 2 रात स्थानीय नेताओं के घर बिताने के लिए लगाया गया है. इसके पीछे पार्टी का मकसद है कि लोकल स्तर से असल फीडबैक इक्कट्ठा किया जा सके और साथ ही सभी विधानसभा में राष्ट्रीय नेताओं के 2 दिन प्रवास से पार्टी के स्थानीय नेताओं और इकाइयों में कॉन्फिडेंस भी बढ़ेगा. ये सभी 119 नेता हरेक विधानसभा से जो एक्सेपेरियेन्स लेकर आएंगे उसके आधार पर कार्यकारिणी में मंथन और चिंतन कर आगे की चुनावी रणनीति बनाई जाएगी. साथ ही विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की स्क्रूटनी भी प्राथमिक तौर पर हो जाएगा.

पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे पीएम मोदी

2 जुलाई को राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक से शुक्रवार को बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा का शमशाबाद एयरपोर्ट पर जोरदार स्वागत हुआ. इसके बाद करीब 1 किलोमीटर लंबे रोड शो का भी कार्यक्रम है. रोड शो के बाद आज शाम करीब 6 बजे जेपी नड्डा बीजेपी राष्ट्रीय महासचिवों के साथ बैठक कर कार्यकारिणी की रूपरेखा और एजेंडा पर चर्चा करेंगे. 2 जुलाई को दोपहर करीब 3 बजे शुरू होने वाले राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक से पहले बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा अपने पदाधिकारियों के साथ सुबह 10 बजे से बैठक करेंगे.

2 जुलाई को दोपहर 3 बजे के करीब राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ पार्टी के तमाम दिग्गज नेता मौजूद होंगे. टॉप लीडर्स की मौजूदगी में आगामी विधानसभा चुनावों और लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कार्ययोजना बनाकर उसको लागू करने और पहले से चलाए जा रहे योजनाओं की समीक्षा भी की जाएगी. पार्टी की इस राष्ट्रीय कार्यकारिणी में अलग-अलग मुद्दों पर करीब 3 से 4 प्रस्ताव भी लाया जाएगा.

ये भी पढ़ें



कार्यकारिणी का समापन हैदराबाद के परेड ग्राउंड में होने वाली विशाल रैली के साथ होगा. परेड ग्राउंड की इस रैली में विशाल जनसमूह इक्कट्ठा करने के लिए बीजेपी राज्य इकाई ने पूरी ताकत झोंक रखी है. पार्टी नेताओं का कहना है कि इस रैली में 4-5 लाख लोगों को जुटाने की रणनीति बनाई गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *