Tue. Feb 7th, 2023
BJP National Executive Committee Meet : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत में नहीं पहुंचे सीएम KCR, बीजेपी ने कहा - अपमान करना केसीआर का पुराना हथकंडा

हैदराबाद में प्रधानमंत्री मोदी, केसीआर ने नहीं किया स्वागत

Image Credit source: PTI

हैदराबाद में बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरु हो गई है और हिस्सा लेने के लिए ख़ुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को यहां पहुंचे हैं. विचित्र बात यह रही कि इस मौके पर प्रधानमंत्री के स्वागत के लिए राज्य के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव हवाई अड्डा नहीं पहुंचे.

हैदराबाद में बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक (National Executive Committee Meet) शुरु हो गई है और हिस्सा लेने के लिए ख़ुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को यहां पहुंचे हैं. विचित्र बात यह रही कि इस मौके पर प्रधानमंत्री के स्वागत के लिए राज्य के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (K. Chandrashekhar Rao) हवाई अड्डा नहीं पहुंचे. बल्कि पार्टी के एक सांसद को पीएम के स्वागत में एयरपोर्ट भेज दिया. हालांकि मुख्यमंत्री खुद विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) के स्वागत में एयरपोर्ट पहुंचे. कार्यकारी बैठक से पहले राज्य के मुख्यमंत्री और मंत्री बेजेपी नेताओं पर हमलावर हैं और वे कटाक्ष में उन्हें ‘बिरयानी और इरानी चाय’ की पेशकश कर रहे हैं. बैठक को देखते हुए हैदराबाद (Hyderabad) की सड़कों पर विरोध में होर्डिंग्स लगाई गई है. कई पोस्टर में “बाय, बाय मोदी”, “अब बस करो” और “बहुत हो गया मोदी” लिखकर सीधे प्रधानमंत्री को निशाना बनाया गया है.

नहीं छिपेगी केसीआर की भ्रष्ट राजनीति

टीआरएस (TRS) और मुख्यमंत्री राव का यह व्यवहार भाजपा नेताओं को नागवार गुज़र रहा है. उन्होंने मुख्यमंत्री राव और उनकी पार्टी के इस कदम की कड़ी आलोचना की है. बीजेपी नेताओं ने पलटवार करते हुए कहा कि इस तरह के हथकंडे अपनाकर और शक्ति प्रदर्शन करके राव और टीआरएस न ही प्रधानमंत्री मोदी (Pm Modi) का कद छोटा कर पाएंगे, बल्कि उन्हें लोगों के दिलों से भी दूर नहीं कर पाएंगे. कार्यकारी बैठक के मद्देनज़र बीजेपी तेलंगाना ने बड़े स्तर पर इंतज़ाम किए हैं. सड़कों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की होर्डिंग्स, झंडे, पोस्टर और बैनर से पाट दिया गया है.

वहीं केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ट्वीट किया, “चिट्ठी और भावना में सहकारी संघवाद हमारे लोकतंत्र की आधारशिला है. तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने एक बार फिर से प्रोटोकॉल का उल्लंघन करते हुए सीएम और पीएम दोनों की संस्था का अपमान किया है. केसीआर छिप सकते हैं लेकिन उनकी भ्रष्ट राजनीति छिपी नहीं रहेगी.”

हालांकि टीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष केटी रामा राव ने भी सीधे तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र पर कटाक्ष किया है. उन्होंने कहा कि केन्द्र की सत्ताधारी पार्टी को राज्य की टीआरएस सरकार द्वारा लागू की गई नीतियों से सीखना चाहिए. उन्होंने कहा कि सुंदर शहर हैदराबाद में व्हॉट्सएप यूनिवर्सिटी और जुमलाजीवियों का स्वागत है. इसके साथ ही उन्होंने हैदराबादी दम बिरयानी और ईरानी चाय के आनंद लेने की पेशकश की. दरअसल कार्यकारी बैठक के दौरान ख़बर है कि यहां पहुंचने वाले पार्टी के नेता एक-एक कर क्षेत्रों का दौरा करेंगे. इसपर केटीआर ने बीजेपी नेताओं से कहा कि ‘कृपया राज्य का दौरा करें, उसे याद रखें और अपने राज्यों में लागू करें.

केटीआर का प्रधानमंत्री मोदी पर हमला

वहीं, टीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष और प्रदेश सरकार में मंत्री के. टी. रामा राव ने भाजपा और प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसते हुए ट्वीट किया और कहा कि केंद्र की सत्ताधारी पार्टी को राज्य की टीआरएस सरकार द्वारा लागू की गई नीतियों से सीखना चाहिए। इसके लिए टीआरएस के नेता राज्य सरकार की योजनाओं सहित सीएम चंद्रशेखर राव की तस्वीरों के साथ पोस्टर लगाने में जुटी हैं. हालांकि ऐसा पहली बार नहीं है जब केसीआर प्रधानमंत्री के स्वागत के लिए नहीं पहुंचे हैं.

मुख्यमंत्री के लिए प्रोटोकॉल के कोई मायने नहीं: BJP

कभी केसीआर के बेहद करीबी रहे पूर्व मंत्री इटेला राजेंद्र ने कहा, “यह केसीआर का पुराना हथंकडा रहा है कि जब भी कोई दल उनके खिलाफ खड़ा हाता है तो व उसका और उसके शीर्ष नेताओं का अपमान करने का कोई भी मौका नहीं चूकते. बीजेपी में शामिल हो चुके इटेला राजेंद्र ने कहा, “यह कोई पहला मौका नहीं है, जब प्रधानमंत्री राज्य के दौरे पर आ रहे हैं और मुख्यमंत्री उनका स्वागत करने नहीं जा रहे हैं. इससे पहले भी दो मौकों पर ऐसा हो चुका है. ऐसा करके वह अपने आपको छोटा कर रहे हैं।”

उन्होंने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री केसीआर को पहले ही पता था कि यहां 2 और 3 जुलाई को बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारी समिती की बैठक होने वाली है और इसमें पीएम मोदी आने वाले हैं. इसके बावजूद उन्होंने अपना शेड्यूल तय नहीं किया और जानबूझकर विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को बुलाया और उनके लिए कार्यक्रम तय किए. उन्होंने कहा, “मुख्यमंत्री के लिए प्रोटोकॉल और प्रधानमंत्री पद की गरिमा के कोई मायने नहीं हैं. उनके लिए बस उनका परिवार अहमियत रखता है और उसी के चलते वो ऐसे कदम उठा रहे हैं.”

प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी के ख़िलाफ शहर में लगाए गए पोस्टर पर प्रतिक्रिया देते हुए राजेंद्र ने कहा, “टीआरएस अब पोस्टर वॉर’ में जुट गई है, ताकि भाजपा की राष्ट्रीय कार्य समिति की बैठक को असफल करार दिया जा सके. इसके लिए पार्टी ने करोड़ों रुपये खर्च कर दिए.”

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ट्वीट किया, “चिट्ठी और भावना में सहकारी संघवाद हमारे लोकतंत्र की आधारशिला है। तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने एक बार फिर से प्रोटोकॉल का उल्लंघन करते हुए सीएम और पीएम दोनों की संस्था का अपमान किया है। केसीआर छिप सकते हैं लेकिन उनकी भ्रष्ट राजनीति छिपी नहीं रहेगी।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *