Wed. Feb 8th, 2023

ब्राउन राइस को नियमित चावल के लिए एक स्वस्थ विकल्प के रूप में देखा जाता है, इसका मुख्य कारण इसे संसाधित करने का तरीका है। जब चावल प्रोसेस्ड हो जाता है, तो चोकर और गुड बैक्टीरिया  हटा दिए जाते हैं, जबकि जब ब्राउन चावल में यह सब बना रहता है। चोकर और गुड बैक्टीरिया  को पौष्टिक गुणों के लिए जाना जाता है और वे फाइबर से भरपूर होते हैं, इसलिए ब्राउन राइस एक स्वस्थ विकल्प के रूप में सामने आता है और कई स्वास्थ्य लाभों से जुड़ा है। पर क्या आप जानते हैं कि ब्राउन राइस के कुछ स्वास्थ्य जोखिम (Brown rice side effects) भी हैं। 

वेट लॉस के लिए ब्राउन राइस 

भारतीय बाजार में ब्राउन राइस के तेजी से बढ़ने का एक सबसे बड़ा कारण इसका वेट लॉस में फायदेमंद होना है। यह इसमें फाइबर की प्रचुरता के कारण होता है।

फाइबर आपके पेट को लंबे समय तक भरा हुआ रखने में मदद करता है, और भूख नियंत्रण में शामिल हार्मोन को भी नियमित करता है। इस प्रकार यह भूख के हार्मोन के स्तर को कम करते हैं। इसलिए ब्राउन राइस आपको कुल मिलाकर कम कैलोरी का उपभोग करने में मदद करता है, जो लंबे समय में वजन घटाने में मदद करता है।

brown rice benefits
ब्राउन राइस का ज्यादा सेवन पोषक तत्वों को कम कर देता है। चित्र : शटरस्टॉक

एंटी न्यूट्रीएंट भी है ब्राउन राइस 

एनसीबीआई की एक रिसर्च के अनुसार ब्राउन राइस खाने का एक बड़ा साइड इफेक्ट है इसमें मौजूद फाइटिक एसिड नामक एंटी-न्यूट्रीएंट तत्व  का बड़ी मात्रा में पाया जाना। यह एंटी न्यूट्रीएंट तत्व एक ऐसा कॉम्पोजीशन है, जो कई अलग-अलग पौधों या उनसे बने उत्पादों में पाया जा सकता है और हमारे शरीर को खाद्य पदार्थों से मिलने वाले कुछ पोषक तत्व प्राप्त करने से रोक सकता है।
फाइटेट, या फाइटिक एसिड, एक सामान्य पोषक तत्व हैं जो फलियां, नट, बीज, और साबुत अनाज जैसे ब्राउन राइस में पाया जा सकता है।

यहां हैं लगातार ब्राउन राइस खाने से होने वाले कुछ साइड इफेक्ट 

पाचन की समस्या

ज़्यादा फाइबर  वाले खाद्य पदार्थ आपके पाचन में हस्तक्षेप कर सकते हैं और समस्याएं पैदा कर सकते हैं। ब्राउन राइस में चोकर और रोगाणु बरकरार होते हैं, जो इसे फाइबर रिच बनाने के लिए जिम्मेदार हैं। चोकर और रोगाणु (बैक्टीरिया) पाचन तंत्र को भी डिस्टर्ब कर सकते हैं, जिससे पाचन संबंधी समस्याएं जैसे सूजन, दस्त, कब्ज और लीकी गट सिंड्रोम तक हो सकता है।

आर्सेनिक के कारण हो सकता है मधुमेह

अधिकांश अनाज आर्सेनिक के संपर्क में आते हैं, जो मिट्टी और पानी में पाया जाने वाला एक तत्व है, और जब इसके संपर्क में आते हैं, तो आप गंभीर स्थिति से पीड़ित हो सकते हैं। ब्राउन राइस में अधिकांश अन्य अनाजों की तुलना में अधिक आर्सेनिक होता है, इसलिए परिस्थितियों से प्रभावित होने का खतरा बढ़ जाता है। आर्सेनिक की थोड़ी मात्रा भी कैंसर, हृदय रोग और टाइप 2 मधुमेह के खतरे को बढ़ा सकती है।

यह भी पढ़ें: बारिश का मौसम कहीं आपके पेट पर भारी न पड़ जाए, याद रखें ये गट हेल्दी टिप्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *