Tue. Feb 7th, 2023
Char Dham Yatra Update: चारधाम यात्रियों के लिए खुशखबरी, अब केदारनाथ धाम के गर्भगृह में जाकर कर सकेंगे दर्शन, प्रतिबंध हटा

केदारनाथ धाम (फाइल फोटो)

केदारनाथ धाम में गर्भगृह में प्रवेश पर प्रतिबंध रिकॉर्ड संख्या में श्रद्धालुओं के पहुंचने के कारण लगाया गया था. अब बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति ने गर्भगृह में प्रवेश पर प्रतिबंध हटा दिया है.

उत्तराखंड में चार धाम यात्रा (Uttarakhand Chardham Yatra) पर आने वाले तीर्थयात्रियों के लिए खुशखबरी है. अब भक्त केदारनाथ धाम के गर्भगृह में प्रवेश कर दर्शन कर सकेंगे. बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति (BKTC) ने गर्भगृह में प्रवेश पर प्रतिबंध हटा दिया है. ये प्रतिबंध रिकॉर्ड संख्या में श्रद्धालुओं के पहुंचने के कारण लगाया गया था. तब से लेकर अबतक भक्त श्रद्धालु सभा मंडप से ही बाबा केदार के दर्शन (Kedarnath Dham) कर रहे थे. अब चारधाम यात्रियों की संख्या में कमी के चलते एक बार फिर श्रद्धालु गर्भगृह में जाकर बाबा केदार के दर्शन कर रहे हैं.

बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति (बीकेटीसी) के अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने बताया की इस वर्ष मई व जून माह में रिकॉर्ड संख्या में श्रद्धालुओं के पहुंचने के कारण गर्भगृह में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया गया था. श्रद्धालु सभा मंडप से ही बाबा केदार के दर्शन कर रहे थे. अब संख्या कम होने के बाद श्रद्धालु मंदिर के गर्भगृह में जाकर पूजा-अर्चना कर रहे हैं. बीकेटीसी के अध्यक्ष ने बताया कि मंदिर समिति तीर्थयात्रियों को मंदिरों में सरल-सुगम दर्शन के लिए प्रतिबद्ध है. मंदिर समिति के अनुसार कपाट खुलने से अब तक केदारनाथ व बदरीनाथ धाम में 17.32 लाख से अधिक श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं. इसमें बदरीनाथ धाम में 901081 और केदारनाथ धाम 831600 श्रद्धालुओं ने दर्शन किए हैं.

पहाड़ी से मलबा गिरने से यमुनोत्री हाईवे बाधित

इधर प्रदेश के पहाड़ी इलाकों में बारिश का दौर शुरू हो गया है. बारिश से कई मार्गों पर पहाड़ी से मलबा गिर रहा है. इधर यमुनोत्री राजमार्ग खनेड़ा पुल के पास चट्टान दरकने से बाधित हो गया है. भारी बारिश और भूस्खलन से हाईवे पर आज सुबह से यातायात ठप हो गया, जिस कारण यमुनोत्री धाम जाने व आने वाले तीर्थयात्री सड़क के दोनों ओर फंस हुए हैं. हालांकि प्रशासन हाईवे खोलने में जुटा हुआ है.

रुद्रप्रयाग में सिरोबगड़ हाईवे हुआ सुचारू

इधर बीते दिन रुद्रप्रयाग में भारी बारिश के कारण सिरोबगड़ हाईवे करीब 36 घंटे से बाधित था, जिसे अब सुचारू कर दिया गया है. इस संवेदनशील भूस्खलन क्षेत्र में एनएच के कर्मचारियों ने कड़ी मशक्कत के बाद मार्ग पर आया मलबा और बोल्डर सड़क से हटाया. जिसके बाद यहां एक बार फिर से यातायात शुरू हो गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *