Tue. Feb 7th, 2023
Covid-19 Pandemic: कोरोना को लेकर WHO ने फिर चेताया, कहा- खत्म नहीं हुई महामारी, 110 देशों में बढ़ रहे मामले

Director General Of Who Tedros Adhanom Ghebreyesus

Image Credit source: PTI

कोरोना को लेकर डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेबियस ने चेताते हुए कहा, “यह महामारी बदल रही है लेकिन यह खत्म नहीं हुई है. इस समय 110 देशों में मामले बढ़ रहे हैं, जिससे कुल वैश्विक मामलों में 20 फीसदी की वृद्धि हुई है.

दुनिया के ज्यादातर देशों में कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर सख्त नियमों में ढील बरती जा रही है और लोगों की ओर से कोविड संयमित व्यवहार का पालन भी नहीं किया जा रहा है. इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation) ने एक बार फिर लोगों को सावधान रहने को चेताया है. डब्ल्यूएचओ ने बुधवार को कहा कि कोरोना महामारी (Covid-19 Pandemic) बदल रही है, लेकिन यह अभी खत्म नहीं हुआ है और चेतावनी दी कि 110 देशों में मामले बढ़ रहे हैं.

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक, टेड्रोस एडनॉम घेबियस ने कहा, “यह महामारी बदल रही है लेकिन यह खत्म नहीं हुई है. कोरोना वायरस को ट्रैक करने की हमारी क्षमता खतरे में है क्योंकि रिपोर्टिंग और जीनोमिक सीक्वेंसेस घट रहे हैं जिसका मतलब है कि ओमिक्रॉन को ट्रैक करना और भविष्य के उभरते वेरिएंट का विश्लेषण करना कठिन होता जा रहा है.”

वैश्विक मामलों में 20 फीसदी की वृद्धिः WHO

उन्होंने आगे कहा, “कोविड-19, कई जगहों पर BA.4 और BA.5 द्वारा संचालित है और 110 देशों में मामले बढ़ रहे हैं, जिससे कुल वैश्विक मामलों में 20 फीसदी की वृद्धि हुई है और डब्ल्यूएचओ के 6 क्षेत्रों में से 3 में मौत के आंकड़े बढ़े हैं. हालांकि वैश्विक आंकड़ा अपेक्षाकृत स्थिर बना हुआ है.”

कोरोना वायरस और अन्य वैश्विक स्वास्थ्य मुद्दों पर मीडिया को जानकारी देते हुए, डब्ल्यूएचओ के निदेशक ने कहा कि डब्ल्यूएचओ ने सभी देशों से अपनी आबादी का कम से कम 70 प्रतिशत टीकाकरण करने का आह्वान किया था. उन्होंने आगे कहा कि पिछले 18 महीनों में वैश्विक स्तर पर 12 अरब से अधिक वैक्सीन का वितरण किया गया है.

गरीब देशों को लेकर चिंता जताते हुए डब्ल्यूएचओ प्रमुख घेबियस ने कहा, “दूसरी तरफ, कम आय वाले देशों में लाखों स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और बुजुर्ग समेत लाखों लोगों को अभी भी वैक्सीन का डोज नहीं दिया जा सका, जिसका अर्थ है कि वे वायरस की भविष्य की लहरों के प्रति अधिक संवेदनशील क्षेत्र हैं.” उन्होंने यह भी कहा, “महज 58 देशों ने 70 प्रतिशत लक्ष्य हासिल किया है, जबकि कुछ का कहना है कि कम आय वाले देशों के लिए इसे हासिल कर पाना संभव नहीं है.”

टीकाकरण अभियान चलाए रखना होगाः WHO

घेबियस ने अफ्रीकी देश रवांडा का उदाहरण दिया जहां वैक्सीन की दूसरी डोज दिए जाने का दर अब 65 प्रतिशत से ऊपर है और अभी भी आगे बढ़ रही है. डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने रेखांकित किया कि सबसे अधिक जोखिम वाले देशों में टीकाकरण अभियान चलाए रखना होगा.

इससे पहले, महानिदेशक घेबियस ने कहा कि हालांकि कोरोना के इतर मंकीपॉक्स वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय चिंता का एक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल नहीं है, इस घटना की आपातकालीन प्रकृति के लिए गहन प्रतिक्रिया प्रयासों की जरुरत होती है.

पिछले दिनों विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंकीपॉक्स को अंतरराष्ट्रीय चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित नहीं करने का फैसला किया है. हालांकि यह भी कहा कि भविष्य में इसमें बदलाव किया जा सकता है. हालांकि, डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेबियस ने कहा कि वह मंकीपॉक्स के बढ़ते खतरे के बारे में “गंभीर रूप से चिंतित” हैं, जो उनके अनुसार 50 से अधिक देशों में पहुंच गया है.

इनपुट- एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *