Wed. Feb 8th, 2023
ICICI Bank ने महंगा किया लोन, MCLR में की 20 बेसिस पॉइंट्स की बढ़ोतरी

ICICI बैंक ने महंगा किया लोन

आईसीआईसीआई बैंक की वेबसाइट पर अपलोड किए गए ताजा ब्याज दरों के मुताबिक अब एक रात की अवधि वाले MCLR की ब्याज दरें 7.30 से बढ़कर 7.50 फीसदी हो गई हैं. एक महीने की अवधि वाले MCLR की ब्याज दरें भी बढ़कर 7.30 से 7.50 प्रतिशत हो गई है.

प्राइवेट सेक्टर के आईसीआईसीआई बैंक ने एमसीएलआर (Marginal Cost of funds based Lending Rate) की ब्याज दरों में नई बढ़ोतरी का ऐलान किया है. आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) ने इस बार अलग-अलग अवधि के MCLR में 20 बेसिस पॉइंट्स यानी 0.20 फीसदी की बढ़ोतरी की है. ICICI बैंक की आधिकारिक वेबसाइट से मिली जानकारी के मुताबिक कर्ज की नई ब्याज दरें 1 जुलाई, 2022 से लागू कर दी गई हैं. बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा रेपो रेट में की गई बढ़ोतरी के बाद से ही देशभर के तमाम बैंक ग्राहकों को दिए जाने वाले कर्ज की ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर रहे हैं. जिससे आम आदमी के कंधों पर पड़ने वाला ईएमआई का बोझ भी बढ़ता जा रहा है.

1 साल वाले MCLR की ब्याज दर 7.55 से बढ़कर हुई 7.75 प्रतिशत

आईसीआईसीआई बैंक की वेबसाइट पर अपलोड किए गए ताजा ब्याज दरों के मुताबिक अब एक रात की अवधि वाले MCLR की ब्याज दरें 7.30 से बढ़कर 7.50 फीसदी हो गई हैं. एक महीने की अवधि वाले MCLR की ब्याज दरें भी बढ़कर 7.30 से 7.50 प्रतिशत हो गई है. 3 महीने की अवधि वाले MCLR की ब्याज दरें 7.35 से बढ़ाकर 7.55 प्रतिशत कर दी गई हैं. इसके अलावा 6 महीने वाले MCLR की ब्याज दरें 7.50 फीसदी से बढ़कर 7.70 फीसदी हो गई हैं. वहीं, 1 साल वाले MCLR की ब्याज दरें अब 7.55 प्रतिशत से बढ़कर 7.75 प्रतिशत हो गया है.

आरबीआई ने 8 जून को किया था रेपो रेट में 0.50 फीसदी का इजाफा

बताते चलें कि भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने पिछले महीने 8 जून को रेपो रेट में 50 बेसिस पॉइंट्स की बढ़ोतरी का ऐलान किया था. आरबीआई के इस ऐलान के बाद रेपो रेट में 0.50 प्रतिशत का इजाफा हुआ था और ये 4.40 फीसदी से 4.90 फीसदी हो गया था. इससे पहले, रिजर्व बैंक ने 4 मई, 2022 को ही रेपो रेट में 0.40 फीसदी की बढ़ोतरी की थी. जिसके बाद रेपो रेट 4.0 प्रतिशत से बढ़कर 4.40 प्रतिशत हो गया था. बता दें कि रिजर्व बैंक जिस ब्याज दर पर बैंकों को पैसा देता है, उस ब्याज दर को ही रेपो रेट कहा जाता है.

रिजर्व बैंक द्वारा रेपो रेट बढ़ाए जाने के बाद देशभर के तमाम बैंकों ने जहां लोन महंगा कर दिया. इसके अलावा बैंकों ने रिजर्व बैंक पर अपनी निर्भरता को कम करने के लिए डिपॉजिट पर दिए जाने वाली ब्याज दरों में भी बढ़ोतरी कर दी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *