Tue. Feb 7th, 2023
IND VS ENG: टीम इंडिया के 2 सबसे बड़े मैच विनर बाहर, इंग्लैंड करने वाला है जोरदार प्रहार

बेन स्टोक्स करने वाले हैं टीम इंडिया की कमजोरी पर वार!

Image Credit source: AFP

England vs India, 5th Test: भारत और इंग्लैंड के बीच एजबेस्टन में शुक्रवार से टेस्ट मैच शुरू होगा. इस मैच से पहले टीम इंडिया के कप्तान रोहित शर्मा कोविड के चलते बाहर हो चुके हैं. वहीं केएल राहुल चोट के चलते टीम में शामिल नहीं हैं.

निखिल नारायण

रोहित शर्मा (Rohit Sharma) 1 जुलाई से बर्मिंघम के एजबेस्टन में इंग्लैंड के खिलाफ महत्वपूर्ण निर्णायक सीरीज़ के लिए उपलब्ध नहीं है, जो उस देश में सीरीज पर असाधारण जीत की लालसा पाले भारत के लिए बड़ा झटका है. भारतीय कप्तान जांच में फिर से कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं और इस तरह शुक्रवार से होने वाले महत्वपूर्ण खेल से बाहर हो गए हैं. यह भारत के लिए बड़ा नुकसान है क्योंकि रोहित न केवल दुनिया के सर्वश्रेष्ठ टेस्ट सलामी बल्लेबाजों में से हैं जिन्होंने अक्टूबर 2019 में खास भूमिका निभाई थी, बल्कि केएल राहुल के साथ टॉप आर्डर में शानदार साझेदारी भी की थी, जब भारत ने पिछली गर्मियों में इंग्लैंड का दौरा किया था.

राहुल भी चोट के कारण बाहर हो गए हैं, भारत टेस्ट में जेम्स एंडरसन और कंपनी के खिलाफ एक ऐसी जगह दो रिजर्व सलामी बल्लेबाजों के साथ उतरेगा, जहां SENA (South Africa, England, New Zealand and Australia) में उनका सबसे खराब रिकॉर्ड है. विजिटिंग टीम का नेतृत्व एक अनुभवहीन कप्तान द्वारा किया जाएगा, जो उस तेजतर्रार घरेलू टीम के खिलाफ कुछ खास नहीं कर पाएगा जिसने अपने नए मैनेजमेंट के तहत क्रिकेट का नया ऑल-आउट-अटैक ब्रांड खेलते हुए वर्तमान वर्ल्ड टेस्ट क्रिकेट (WTC) विजेताओं को 3-0 से हराया.

रोहित – अक्टूबर 2019 के बाद से दुनिया में सबसे ज्यादा प्रभावी टेस्ट ओपनर

प्लेइंग-11 से बाहर होने के कगार पर टेस्ट क्रिकेट में रोहित की किस्मत ने नाटकीय मोड़ लिया जब उन्हें 2019 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू सीरीज में टॉप आर्डर पर धकेल दिया गया. उन्होंने विजाग में टेस्ट ओपनर के रूप में अपने पहले मैच में दो शतक लगाए और रांची में सीरीज के तीसरे टेस्ट में दोहरा शतक दर्ज किया. उसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में दूसरी बार ओपनिंग पोजीशन पर उनकी किस्मत एक बल्लेबाज के तौर पर बदल गई.

2 अक्टूबर 2019 के बाद से रोहित के 18 मैचों में 1552 रनों की तुलना में दुनिया में किसी भी सलामी बल्लेबाज ने इतने रन नहीं बनाए. रोहित के 55.42 की तुलना में केवल डेविड वार्नर का बल्लेबाजी औसत 56.3 थोड़ा बेहतर है और इस समय सीमा में दिमुथ करुणारत्ने ने इतने ही शतक (5) लगाए हैं. रोहित भी इस अवधि में लगातार 30 पारियों में से केवल आठ में असफल रहे हैं – यानी, 26.67% की बेहद कम विफलता दर – जो असाधारण है क्योंकि उन्होंने SENA में अपनी लगभग आधी पारी में नई गेंद का सामना किया.

Rohit Sharma Ind Vs Lei

रोहित शर्मा ने इंग्लैंड दौरे पर पिछले साल किया था कमाल प्रदर्शन

यह भी महत्वपूर्ण है कि वह इस दौरान भारत के सबसे अधिक रन बनाने वाले और सबसे अधिक प्रभावी टेस्ट बल्लेबाज रहे हैं – एक ऐसी अवधि जो बिग 3 (कोहली, पुजारा और रहाणे) की विफलता के साथ मेल खाती थी. रोहित के बल्लेबाजी औसत और लिस्ट में नंबर 2 – मयंक अग्रवाल (41.82) के बीच बहुत अधिक अंतर है. ऋषभ पंत 38.86 की औसत के साथ तीसरे नंबर पर हैं. इस दौरान कोहली का औसत 38.05, रहाणे का 30.05 और पुजारा का 28.53 का औसत रहा. इस अवधि में बिग 3 ने संयुक्त रूप से चार शतक बनाए हैं – जो रोहित के 5 के आंकड़े से एक कम है.

इंग्लैंड के खिलाफ बेहद प्रभावी प्रदर्शन

सलामी बल्लेबाज की भूमिका में आने के बाद से रोहित के सात सबसे प्रभावशाली प्रदर्शनों में से चार इंग्लैंड के खिलाफ हैं. और इसीलिए बर्मिंघम से उनकी अनुपस्थिति टीम इंडिया के लिए एक बड़ा झटका साबित होगी. भारत इंग्लैंड के खिलाफ चार मैचों की घरेलू श्रृंखला में 0-1 से पीछे चल रहा था और चेन्नई में दूसरे टेस्ट में शुरुआती विकेट गंवाने की समस्या से जूझ रहा था. इस कमी के विनाशकारी परिणाम होंगे और वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के उद्घाटन सत्र के फाइनल में पहुंचने की भारत की संभावना को गंभीर रूप से कम कर देगा. इसके बाद रोहित ने भारतीय परिस्थितियों में सबसे अधिक जादुई शतकों में से एक यानी सिर्फ 231 गेंदों पर 161 रन बनाए. वे इंग्लैंड के अटैक पर हावी रहे, भले ही उनके आसपास के अन्य लोग भारत के परिवर्तन का नेतृत्व करने में विफल रहे. इसके बाद उन्होंने अहमदाबाद में अगले टेस्ट में इंग्लैंड के आक्रमण पर हावी होते हुए कम स्कोर वाले मुकाबले में पहले दिन से खतरनाक गेंदों का सामना करते हुए 96 गेंदों में 66 रन बनाकर टॉप स्कोर बनाया. यह उनकी पारी थी जो मैच में दोनों टीमों के बीच अंतर था. भारत ने चार मैचों की श्रृंखला में 2-1 की बढ़त बना ली.

इसके बाद रोहित ने विदेशी ग्राउंड पर अपना पहला टेस्ट शतक बनाकर अपने आलोचकों को चुप करा दिया जो कहा करते थे कि वे कमजोर टीम के खिलाफ चल पाते हैं. ओवल में चौथे टेस्ट की दूसरी पारी में उनके शानदार 127 रन की बदौलत भारत को 99 के नुकसान से उबरने में मदद की और इंग्लैंड को 157 रनों से हराकर सीरीज में 2-1 की बढ़त बना ली. रोहित का इंग्लैंड के खिलाफ नौ टेस्ट मैचों में 49.8 की औसत से दो शतक और तीन अर्द्धशतक के साथ 747 रन के साथ बहुत बढ़िया रिकॉर्ड है.

इंग्लैंड में भारत का सबसे प्रभावी बल्लेबाज और राहुल के साथ ओपनिंग पार्टनरशिप

रोहित 2021 में इंग्लैंड में चार टेस्ट मैचों की सीरीज में भारत के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज थे. उन्होंने लॉर्ड्स में दूसरे टेस्ट में राहुल के साथ 126 रन की ओपनिंग पार्टनरशिप में ताबड़तोड़ 83 रन बनाए. जुलाई 2007 में जाफर-कार्तिक के नॉटिंघम में 147 रन बनाने के बाद से यह इंग्लैंड में पहले विकेट के लिए भारत का पहला शतक था. भारतीय उपमहाद्वीप के सलामी बल्लेबाजों के लिए इंग्लैंड में स्विंग और सीम का सामना करना बेहद कठिन था.

ओवल में चौथे टेस्ट की पहली पारी में भारत को 99 रनों की कमी का सामना करने के बाद इस जोड़ी ने शुरुआती विकेट के लिए 83 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी की. रोहित ने शानदार शतक दर्ज किया – विदेश में उनका पहला – जब उन्होंने 256 गेंदों में शानदार 127 रन बनाए और भारत ने इंग्लैंड को 157 रनों से हराकर सीरीज में 2-1 की बढ़त बना ली. यह टेस्ट क्रिकेट में उनका आठवां शतक था और उल्लेखनीय रूप से जब भी उन्होंने तीन अंकों (Three figures) के आंकड़ों में में रन बनाए हैं भारत विजयी रहा है! किसी अन्य भारतीय बल्लेबाज के पास रोहित के जैसा रिकॉर्ड नहीं है. मूल बात यह है कि जब रोहित बड़ा स्कोर करते हैं तो यह टीम इंडिया के लिए फायदेमंद होता है!

रोहित ने दिखाया था संयमित खेल

रोहित विशेष रूप से प्रभावशाली रहे हैं और उन्होंने ऑफ स्टंप के बाहर गेंदों को छोड़ने में बेजोड़ निर्णय लिए – वे अंतिम मिनट तक गेंदों को देखते और उन्हें लाइन और लेंथ पर छोड़ देते. जल्दबाजी नहीं करना बहुत महत्वपूर्ण है और उन्हें और राहुल दोनों को पूरी सीरीज के खेल के पहले घंटे में परिस्थितियों का सम्मान करते हुए अपनी स्वाभाविक शॉट खेलने की प्रवृत्ति पर लगाम लगाना था. और उन्होंने परफेक्शन के साथ यही किया.

रोहित शर्मा-केएल राहुल की पार्टनरशिप ने 8 पारियों में 421 रन जोड़े – सीरीज में किसी भी जोड़ी द्वारा 52.62 की औसत साझेदारी के साथ सबसे अधिक और 1979 में चेतन चौहान-सुनील गावस्कर द्वारा बनाए गए सात पारियों में 64.71 की औसत से 453 रन के रिकॉर्ड को तोड़ने के कगार पर थे. उन्होंने नॉटिंघम, लॉर्ड्स और द ओवल में भारत को जो शुरुआत दी, वह सीरीज में टीम की सफलता के बड़ी वजहों में से एक थी. इस जोड़ी ने नई गेंद का सामना किया और सीरीज में चार में से तीन टेस्ट में बेहद महत्वपूर्ण भारतीय स्कोर की नींव रखी. बर्मिंघम में सीमर-फ्रेंडली विकेट पर प्लेइंग-11 में इन दोनों के बिना रिजर्व भारतीय सलामी बल्लेबाजों को एंडरसन, ब्रॉड एंड कंपनी के खिलाफ प्रदर्शन करना होगा.रोहित भारत के लिए सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी थे और उन्होंने चार टेस्ट मैचों में 52.57 के औसत से एक शतक और दो अर्द्धशतक के साथ कुल 368 रन बनाए.

रोहित के नेतृत्व की कमी खलेगी

भारत को न केवल सलामी बल्लेबाज रोहित की कमी खलेगी, बल्कि एजबेस्टन में बड़े मुकाबले के लिए नेतृत्व के मामले में भी अनुभवहीनता दिखेगी. हालांकि रोहित ने केवल दो टेस्ट मैचों में भारत का नेतृत्व किया है, लेकिन नवंबर 2021 में न्यूजीलैंड के खिलाफ T20I सीरीज से कार्यभार संभालने के बाद उन्होंने फुल-टाइम कप्तान के रूप में सभी 14 मैचों में जीत दर्ज की. रोहित सबसे सफल टी 20 खिलाड़ी भी हैं. फ्रेंचाइजी क्रिकेट में कप्तान ने 2013 और 2020 के बीच मुंबई इंडियंस को पांच खिताब दिलाए.

स्टैंड-इन कप्तान जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) होंगे, जिन्होंने कभी भी इंटरनेशनल लेवल पर देश को लीड नहीं किया है. इंग्लैंड टीम के खिलाफ यह तेज गेंदबाज के लिए बड़ी चुनौती होगी, जो अपने रवैये और नाईट मैच में ख़राब विज़बिलिटी के कारण कुछ हद तक नए माहौल में होंगे, जिसने हाल ही में समाप्त हुई सीरीज में न्यूजीलैंड को 3-0 से परास्त कर दिया. भारत के संकट में इजाफा करने के लिए, एजबेस्टन में SENA में उनका सबसे खराब रिकॉर्ड है, उन्होंने इस वेन्यू पर सात मैचों में छह बार हार का सामना किया है.

ये भी पढ़ें



इंग्लैंड फिर से संभलकर जबरदस्त फॉर्म में है, जबकि भारतीय टीम के लिए वेन्यू अनुकूल नहीं है. दो मध्य-क्रम के बड़े खिलाड़ी अपने सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में नहीं है, केएल राहुल चोटिल हैं और अब उनके कप्तान और पिछले ढाई वर्षों में सबसे शानदार टेस्ट बल्लेबाज रोहित शर्मा भी बाहर हो गए. इस तरह भारत शुक्रवार से बर्मिंघम में इन सभी चुनौतियों के खिलाफ लड़ेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *