Sat. Oct 1st, 2022

हाल ही में किए गए एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि खराब ह्रदय स्वास्थ्य ने महिलाओं और उनके शिशु को जोखिम में डाल दिया। चलिए अध्ययन को विस्तार से समझते हैं

गर्भधारण से पहले हम कई चीजों का ध्यान रखते हैं। लेकिन कई बार हम अपनी दिल की सेहत को नजरअंदाज कर देते हैं। बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल खराब ह्रदय स्वास्थ्य की ओर इशारा करता है। लेकिन दिल की सेहत को नजरअंदाज करना आपके और आपके शिशु दोनों की सेहत को भारी पड़ सकता है। हाल ही में एक अध्ययन किया गया, जिसमें इस चीज पर जोर दिया गया कि कंसीव करने से पहले महिलाओं को अपने हृदय स्वास्थ्य को संभालना बहुत जरूरी है।

ह्रदय स्वास्थ्य और गर्भधारण 

हेल्दी बेबी के लिए अच्छी होनी चाहिए आपकी हार्ट हेल्थ। चित्र : शटरस्टॉक

इस बात से तो सभी वाकिफ हैं कि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में काफी परिवर्तन देखने को मिलते हैं। गर्भावस्था महिलाओं के दिल और संचार प्रणाली पर भी असर डालती है। प्रेगनेंसी के दौरान एक महिला के शरीर में रक्त की मात्रा उसकी कोख में पल रहे बच्चे को पोषण देने के लिए 30 से 50 प्रतिशत तक बढ़ जाती है। इसके कारण दिल पर भी प्रभाव पड़ सकता है।

जानिए क्या है अध्ययन? 

यह अध्ययन नॉर्थवेस्टर्न मेडिसिन द्वारा किया गया। जिसमें दिल के एक महत्वपूर्ण लेकिन अक्सर अनदेखी किए गए मामले पर प्रकाश पड़ा। अध्ययन सलाह देता है कि गर्भवती होने से पहले किसी के हृदय स्वास्थ्य को अनुकूलित करना जरूरी है। यह अध्ययन ‘सर्कुलेशन’ में प्रकाशित हुआ था। 

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (एएचए) पीयर-रिव्यू फ्लैगशिप जर्नल, गो रेड फॉर वूमेन कैंपेन के लिए एक थीम वाले मुद्दे के हिस्से के रूप में किया गया। जिसे 2004 में एएचए द्वारा महिलाओं में हृदय रोग के जोखिमों के बारे में जागरूकता को उजागर करने के लिए विकसित किया गया था। 

अध्ययन में पाया गया कि 2019 में संयुक्त राज्य अमेरिका में जन्म देने वाली 20 से 44 वर्ष की उम्र के बीच दो में से एक युवा महिला का हृदय स्वास्थ्य खराब था। खराब हृदय स्वास्थ्य ने गर्भवती महिलाओं और उनके शिशु को जोखिम में डाल दिया। हृदय रोग गर्भावस्था से संबंधित चार में से एक से अधिक मौतों का कारण बन रहा था।

क्यों जरूरी है दिल की सेहत का ख्याल रखना 

वरिष्ठ अध्ययन लेखक और नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी फीनबर्ग स्कूल ऑफ मेडिसिन में कार्डियोलॉजी और महामारी विज्ञान में मेडिसिन के सहायक प्रोफेसर और नॉर्थवेस्टर्न मेडिसिन फिजिशियन डॉ सादिया खान बताती हैं, “महिलाओं के रूप में, हम गर्भवती होने के बाद बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में सोचते हैं, लेकिन बहुत सी महिलाओं को इस बात का एहसास नहीं होता है कि वे अपने बच्चों (और खुद) की रक्षा के लिए सबसे पहले अपने दिल की सेहत के लिए क्या कर सकती हैं।”

ये कारक हैं हृदय स्वास्थ्य के लिए जिम्मेदार 

Heart health aur pregnancy गर्भावस्था में पहले से अधिक वजन नहीं होना चाहिए । चित्र: शटरस्टॉक

अध्ययन में पाया गया कि शामिल हुई सभी महिलाओं में से आधे से ज्यादा महिलाओं में प्रेगनेंसी से खराब दिल के स्वास्थ्य के कई कारण थे। जिसमें मोटापा, मधुमेह उच्च रक्तचाप सबसे आगे थे। गर्भावस्था में पहले से अधिक वजन या मोटा होना हृदय के खराब स्वास्थ्य का सबसे आम कारण था।

इसलिए अगर आप भी प्रेगनेंसी प्लान कर रहीं हैं, तो अपने वजन और ब्लड प्रेशर के बारे में जागरुक रहें। अन्य जांचों के साथ हृदय स्वास्थ्य की जांच  करवाना भी जरूरी है। 

यह भी पढ़े : क्या आपको भी होती है, खाना खाते ही वॉशरूम जाने की जरूरत? जानिए क्यों हो रहा है ऐसा



Post Views:
3

Leave a Reply

Your email address will not be published.