Tue. Feb 7th, 2023
Lookout Notice: क्या होता है लुकआउट नोटिस जो कोलकाता पुलिस ने नुपूर शर्मा के खिलाफ जारी किया, 5 पॉइंट में समझें सबकुछ

भाजपा से निलंबित हो चुकीं नूपुर शर्मा के खिलाफ कोलकाता पुलिस ने लुकआउट नोट‍िस जारी किया है.

Image Credit source: TV9 GFX

What is Lookout notice: भाजपा से निलंबित हो चुकीं नूपुर शर्मा के खिलाफ कोलकाता पुलिस ने लुकआउट नोटिस जारी किया है. क्या होता है लुकआउट नोटिस, कब किसके खिलाफ जारी किया जाता है, किसके पास इसे जारी करने का अधिकार होता है, 5 पॉइंट में जानिए इन सवालों के जवाब…

भाजपा से निलंबित हो चुकीं नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) के खिलाफ कोलकाता पुलिस ने लुकआउट नोटिस जारी किया है. पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी (Prophet Muhammad Remark) मामले में कोलकाता पुलिस ने उन्हें 20 जून को पेश होने के लिए कहा था, लेकिन वो नहीं पेश हुईं. इसके बाद 25 जून को एमहर्स्ट स्ट्रीट पुलिस थाने ने उन्हें खिलाफ समन जारी किया और पेश होने के लिए कहा. नूपुर ने सुरक्षा कारणों से दोनों ही जगह पेश होने से मना कर कर दिया. कोलकाता में नूपुर शर्मा के खिलाफ दो FIR दर्ज हुई हैं, इसके बाद ही पुलिस ने उनके खिलाफ लुकआउट नोटिस (Lookout Notice) जारी किया.

क्या होता है लुकआउट नोटिस, कब किसके खिलाफ जारी किया जाता है, किसके पास इसे जारी करने का अधिकार होता है, 5 पॉइंट में जानिए इन सवालों के जवाब…

ये भी पढ़ें



  1. क्या है लुकआउट नोटिस: इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, लुक आउट नोटिस (LOC) जारी करके यह तय किया जाता है कि कोई अपराधी या भगौड़ा देश छोड़कर न जा सके. इस तरह के नोटिस का प्रयोग ज्यादातर इमिग्रेशन चेकपॉइंट्स और सी-पोर्ट के लिए किया जाता है. इस नोटिस को जारी करके अपराधी के देश छोड़ने पर पाबंदी लगा दी जाती है.
  2. कोर्ट में दी जा सकती है चुनौती: लुकआउट नोटिस जिसके लिए जारी किया है वह इसे जारी करने वाली एजेंसी को कोर्ट में चुनौती दे सकता है. अगर कोर्ट को लगता है कि नोटिस गैरजरूरी है तो आरोपी को राहत मिल सकती है. इस तरह नोटिस ीीीीदाााा दआ दआअ
  3. किसके पास है इसे जारी करने का अधिकार: लुकआउट नोटिस जारी करने के मामले में अधिकतर प्रवर्तन निदेशालय (ED) का नाम सामने आता है, लेकिन कानूनी तौर पर कई ऐसी अथॉरिटीज और एजेंसीज हैं जिनके पास यह नोटिस जारी करने का अधिकार है. राज्य में डिप्टी सेक्रेटरी और जॉइंट सेक्रेटरी की रैंक और इससे ऊपरी रैंक के अधिकारी लुक आउट नोटिस जारी कर सकते हैं. इसके अलावा जिला मजिस्ट्रेट, सुप्रिटेंडेंट ऑफ पुलिस (SP), सरकारी सिक्योरिटी एजेंसी के अधिकारी, इंटरपोल ऑफिसर और कॉर्पोरेट मंत्रालय के पास भी लुकआउट नोटिस जारी करने का अधिकार होता है.
  4. क्या कार्रवाई की जा सकती है:बड़ा सवाल है कि जिस शख्स के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया गया है, उसे गिरफ्तार किया जा सकता है या नहीं. इसका जवाब है कि जरूरी नहीं है कि उस शख्स को गिरफ्तार किया जाए. जिस शख्स से खिलाफ नोटिस जारी किया गया है अथॉरिटीज उस शख्स को देश छोड़ने से रोक सकती हैं.
  5. कार्रवाई का जिक्र नोटिस में होता है:आरोपी को गिरफ्तार किया जाना है या नहीं, इसका जिक्र उस लुक आउट नोटिस में किया जाता है. इसके आधार पर ही कार्रवाई की जा सकती है. यह निर्भर करता है कि मामला कितना गंभीर है, उसके मुताबिक ही ऐसा फैसला लिया जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *