Wed. Feb 8th, 2023
Maharashtra: उद्धव ठाकरे को सीएम शिंदे ने दिया एक और झटका, अब महाराष्ट्र के राज्यपाल को भेजी जाएगी 12 MLC की नई लिस्ट

Uddhav Thackeray Bhagat Singh Koshyari Eknath Shinde

कांग्रेस ने यह भी आरोप लगाया है कि अब तक विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव को लेकर जल्दबाजी नहीं थी, लेकिन नंबर गेम चेंज होने की वजह से बीजेपी की ओर से तुरंत विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव की हड़बड़ाहट दिखाई जा रही है.

महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) ने शिवसेना में बगावत करके उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के लिए मजबूर कर दिया. एकनाथ शिंदे के इस जोर का झटका से अभी उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) उबर भी नहीं पाए थे कि एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस ने अब एक और बड़ा झटका देने की तैयारी कर ली है. महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Maharashtra Governor Bhagat Singh Koshyari) को पिछले डेढ साल से नामांकित हो सकने लाएक विधान परिषद के 12 विधायकों की सूची महा विकास आघाड़ी सरकार की ओर से भेजी गई है. लेकिन राज्यपाल ने इस पर अब तक साइन नहीं किया है. वे एमएलसी की यह लिस्ट अपने पास दबाए बैठे हैं.

उद्धव ठाकरे ने इस्तीफा देते वक्त इस मुद्दे पर कटाक्ष करते हुए कहा था कि जिस राज्यपाल को 12 एमएलसी की सूची में साइन करने में इतना वक्त लग गया उसी राज्यपाल ने विपक्षी नेता से मुलाकात के बाद बहुमत साबित करने का आदेश देने में बिलकुल वक्त नहीं लगाया. अब उन 12 विधायकों की लिस्ट पर साइन कर दें.

12 MLC की नई लिस्ट भेजने की तैयारी, आघाड़ी को नया झटका लगने की बारी

लेकिन सूत्रों के हवाले से अब यह खबर आ रही है कि एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस अब उस पुरानी लिस्ट की बजाए एक नई लिस्ट भेजेंंगे. इसमें 12 एमएलसी के नोमिनेशन के लिए अब नए नाम होंगे. बता दें कि अगर उन विधायकों की सूची में राज्यपाल ने साइन किया होता तो 20 जून को हुए विधान परिषद के चुनाव में वे विधायक महा विकास आघाड़ी की अलग-अलग पार्टियों के पक्ष में मतदान कर पाते.

पुरानी लिस्ट में बीजेपी से एनसीपी में गए एकनाथ खडसे का नाम था. वे अब विधान परिषद के चुनाव में चुने जा चुके हैं. इसके अलावा कांग्रेस ने शिंदे-फडणवीस के शपथ ग्रहण करते ही एक और आरोप लगाया है. कांग्रेस की ओर से प्रवक्ता सचिन सावंत ने यह भी आरोप लगाया है कि अब तक विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव को लेकर जल्दबाजी नहीं थी, लेकिन नंबर गेम चेंज होने की वजह से बीजेपी की ओर से तुरंत विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव की हड़बड़ाहट दिखाई जा रही है. एनसीपी ने यह भी कहा है शिंदे-फडणवीस की जोड़ी 2024 तक नहीं टिकेगी और राज्य में मध्यावधि चुनाव होकर रहेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *