Wed. Feb 8th, 2023
Maharashtra: 'मुझे भी आया था गुवाहाटी जाने का ऑफर...', संजय राउत के बयान से महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल

संजय राउत (फाइल फोटो)

संजय राउत ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस के नाम के साथ पूर्व मुख्यमंत्री या भावी मुख्यमंत्री तो चल सकता है लेकिन उनके नाम के आगे उप मुख्यमंत्री का शब्द खटकता है.

शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) के एक बयान से महाराष्ट्र की राजनीति में खलबली मच गई है. आज (2 जुलाई, शनिवार) संजय राउत ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान यह दावा किया कि उन्हें भी एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) गुट की ओर से बुलावा आया था. उन्हें गुवाहाटी बुलाया गया था. संजय राउत के इस बयान से शिवसेना के खेमे में हलचल मच गई है. शिवसेना (Shiv Sena) के 55 विधायकों में से 39 विधायक एकनाथ शिंदे गुट के साथ जा मिले हैं. सूत्रों के हवाले से खबर यह भी है कि शिवसेना के 19 सांसदों में से 14 विधायक शिंदे गुट के संपर्क में हैं. एकनाथ शिंदे के बेटे श्रीकांत शिंदे, यवतमाल की सांसद भावना गवली समेत कल तीन विधायक उद्धव ठाकरे द्वारा बुलाई गई मीटिंग में शामिल नहीं हुए. जो शामिल हुए उनमें से भी कुछ सांसदों ने उद्धव ठाकरे को शिंदे गुट से समझौता करने की बात कही. इस दौरान संजय राउत का यह कहना कि उन्हें भी गुवाहाटी से ऑफर आया था, चिंता बढ़ाने वाला है.

हालांकि संजय राउत ने यह भी साफ कर दिया कि उन्होंने ऑफर पर ध्यान नहीं दिया. वे गुवाहाटी नहीं गए क्योंकि वे बालासाहेब के विचारों को मानते हैं.अब तो एकनाथ शिंदे गुट के सभी विधायक गुवाहाटी से गोवा होते हुए मुंबई पहुंच रहे हैं. संजय राउत ने शिंदे गुट पर हमले की बजाए बीजेपी पर हमला किया. उन्होंने कहा कि शिंदे के कंधे पर बंदूक रख कर बीजेपी मुंबई को तोड़ने की साजिश रच रही है. मुंबई महानगरपालिका का चुनाव देखते हुए एकनाथ शिंदे को सीएम बनाने का दांव खेला गया है.

‘आने वाला BMC चुनाव, इसलिए सीएम शिंदे को बनाने का बीजेपी ने खेला दांव’

संजय राउत ने कहा कि अब यह साफ हो चुका है कि सीएम एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया गया है. शिवसेना का गढ़ है मुंबई. शिवसेना को तोड़ने के लिए यह दांव खेला गया है. मुंबई महानगरपालिका पर कब्जा करने के लिए ये सब कुछ हो रहा है. लेकिन देवेंद्र फडणवीस के नाम के साथ पूर्व मुख्यमंत्री या भावी मुख्यमंत्री तो चल सकता है लेकिन उनके नाम के आगे उप मुख्यमंत्री का शब्द खटकता है.

ये भी पढ़ें



ईडी ने की 10 घंटे तक पूछताछ, आगे भी सहयोग करेंगे यह कहा साफ

बता दें कि शुक्रवार को ईडी ने संजय राउत से करीब 10 घंटे तक पूछताछ की. गोरेगांव के एक हजार करोड़ से अधिक के पत्राचाल घोटाले के मामले में ईडी ने उन्हें नोटिस भेजकर बुलाया था. संजय राउत ने पूछताछ के बाद मीडिया को बताया कि उनके पास जितनी जानकारियां थीं, वो ईडी को दे दी है. आगे भी वे पूछताछ में सहयोग करने के लिए तैयार हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *