Mon. Jan 30th, 2023
Mumbai Crime: 15 सालों से बंद पड़े अस्पताल की इमारत से मां-बेटी समेत 4 लाशें बरामद, हत्या और आत्महत्या के बीच उलझी पुलिस!

प्रतीकात्मक फोटो

मुंबई के कांदिवली इलाके में 15 साल से बंद पड़े अस्पताल की इमारत के भीतर से 4 लाश मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई. मरने वाले चार में से तीन (मां बेटियां) एक ही परिवार से ताल्लुक रखने वाले बताए गए हैं. स्थानीय पुलिस के मुताबिक, मौके से चार अलग-अलग सुसाइड नोट भी मिले हैं.

मुंबई (Mumbai) के कांदिवली इलाके में 15 साल से बंद पड़े अस्पताल की इमारत के भीतर से 4 लाश (Dead Bodies) मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई. फिलहाल पुलिस ने इस सिलसिले में हत्या का मुकदमा दर्ज करके छानबीन शुरू कर दी है. बरामद लाश एक महिला और उसकी दो बेटियों की बताई गई है. जबकि चौथी लाश किसी शिवदयाल सेन नाम के पुरुष की बताई जा रही है. मौका-ए-वारदात को देखने से लगता है कि यह सामूहिक हत्या का मामला है. महिला का नाम किरण देवी बताया जाता है, जबकि किरण के शव के पास ही मिले दो लड़कियों के शव उनकी बेटी मुस्कान व भूमि के बताए जा रहे हैं. बताया जा रहा है कि चारों लाशें इमारत के भीतरी हिस्से में लावारिस हाल में पड़ी मिली हैं. मरने वाले चार में से तीन (मां बेटियां) एक ही परिवार से ताल्लुक रखने वाले बताए गए हैं. पहचान तो पुरूष की लाश की भी हो चुकी है. मां-बेटियों से इस पुरुष का क्या वास्ता है? इसकी जांच जारी है. माना जा रहा है कि मां बेटियां लंबे समय से इसी इमारत के एक हिस्से में रह रही थीं.

चार सुसाइड नोट भी बरामद

स्थानीय पुलिस के मुताबिक, मौके से चार अलग-अलग सुसाइड नोट भी मिले हैं. इन सुसाइड नोट को पुलिस ने तफ्तीश में शामिल तो किया है. मगर इनकी विश्वसनीयता भी पुलिस परखने में जुटी है. यह सोचकर कि कहीं हत्या से पहले हत्यारों ने जबरदस्ती इन सबसे यह सुसाइड नोट न लिखवा लिए हों. ताकि पूरे मामले को हत्या के बजाए आत्महत्या की ओर बदला जा सके. मतलब सुसाइड नोट पुलिस को कहीं गुमराह करने की चाल तो हत्यारों की नहीं है. सुसाइड नोट को सील करके हैंड राइटिंग एक्सपर्ट के पास भेज दिया गया है. जबकि शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है.

ये भी पढ़ें



हत्या या आत्महत्या पर उठ रहे ये सवाल

मौके पर मौजूद पुलिस के मुताबिक, मां और एक बेटी की लाश इमारत के दूसरे तल पर पड़ी मिली है. जहां खून ही खून बिखरा हुआ मिला है. सवाल यह पैदा होता है कि अगर मां बेटी ने सुसाइड किया है तो फिर उनके आसपास दूर-दूर तक खून कैसे बिखरा पड़ा है ? पुलिस यह तो बता रही है कि चौथा शव किसी शिवदयाल का है. मगर पुलिस इसका जवाब नहीं दे पा रही है कि यह शिव दयाल कौन है. और उसका इन मां बेटी से क्या वास्ता रहा होगा? संभव है कि पुलिस मौके से मिले सुसाइड नोट से शिवदयाल को “शिवदयाल” मानकर उसका नाम चल रही हो. फिलहाल तफ्तीश जारी है. पुलिस ने मौके-ए-वारदात के हालातों के मद्देनजर मुकदमा हत्या का ही लिखा है. क्योंकि मौके पर कई ऐसे सबूत मिले हैं, जो आत्महत्या की थ्योरी पर आसानी से विश्वास नहीं करने दे रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *