Mon. Jan 30th, 2023
Nupur Sharma Case: पैगंबर पर विवादित बयान देने वाली नूपुर शर्मा की बढ़ी मुश्किलें, FIR दर्ज होने के बाद दिल्ली पुलिस ने भेजा नोटिस

बीजेपी से निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा (फाइल)

पैगंबर पर विवादित बयान देने वाली बीजेपी नेता नूपुर शर्मा की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं. पहले सुप्रीम कोर्ट की कड़ी फटकार झेलनी पड़ी. अब दिल्ली पुलिस ने धारा 41ए के तहत नूपुर शर्मा को नोटिस भेजा है.

सुप्रीम कोर्ट की कड़ी फटकार के बाद बीजेपी नेता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma Case) की मुश्किलें बढ़ना शुरू हो गई हैं. नूपुर शर्मा के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने के बाद दिल्ली पुलिस ने धारा 41ए के तहत जांच में शामिल होने का नोटिस भेजा है. बता दें, नूपुर शर्मा पहले ही जांच में शामिल हो चुकी थीं और दिल्ली पुलिस ने 18 जून को उनका बयान भी दर्ज किया था. दरअसल, एक टीवी डिबेट के दौरान पैंगबर मोहम्मद को लेकर कथित तौर पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. धीरे-धीरे ये मामला बढ़ता चला गया. इसके विरोध में यूपी के कानपुर, प्रयागराज समेत कई शहरों में हिंसा की गई. जुमे की नमाज के बाद उपद्रवी सड़कों पर उतरे और प्रदर्शन के साथ आगजनी तक हुई. मामले शांत कुछ हुआ ही था, कि चिंगारी राजस्थान के उदयपुर में हुई कन्हैयालाल हत्याकांड से फिर से भरक उठी.

वहीं, मामले का सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान लिया. सुप्रीम कोर्ट ने नूपुर शर्मा से सख्त लहजे में कहा है कि वह देश से माफी मांगें. कोर्ट ने कहा है कि नूपुर शर्मा ने पैगंबर पर टिप्पणी टीवी डिबेट में की थी इसीलिए वह माफी भी टीवी के सामने ही मांगें. उधर, मुस्लिम उलेमाओं ने सुप्रीम कोर्ट की इस टिप्पणी का स्वागत किया है.

‘नूपुर को सख्त सजा मिले’

मुस्लिम संगठनों का कहना है कि नूपुर को सख्त से सख्त सजा मिले, जिससे भविष्य में कोई भी इस तरह की टिप्पणी कर देश का माहौल खराब न करे. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जमात-ए-इस्लामी हिंद के उपाध्यक्ष मोहम्मद सलीम इंजीनियर ने भी कोर्ट की टिप्पणी पर खुशी जताई है. उन्होंने कहा कि वह इसका स्वागत करते हैं. इस टिप्पणी से एक उम्मीद जगी है. उन्होंने कहा कि नूपुर देश से माफी मांगे, लेकिन इससे उनका अपराध कम नहीं हो जाता. उन्हें कानूनी रूप से सजा भी मिलनी चाहिए. सलीम इंजीनियर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी इस बात को माना है कि नूपुर के बयान से देश का माहौल खराब हुआ है. उन्होंने कहा कि नूपुर को गिरफ्तार ना करना समाज में एक गलत संदेश है.

ये भी पढ़ें



पैगंबर पर नूपुर शर्मा ने दिया था बयान

विवाद की शुरुआत एक टीवी डिबेट के दौरान हुई थी, जिसमें बीजेपी की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने पैंगबर मोहम्मद को लेकर कथित तौर पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. धीरे-धीरे ये मामला बढ़ता चला गया. इसके विरोध में यूपी के कानपुर, प्रयागराज समेत कई शहरों में हिंसा की गई. जुमे की नमाज के बाद उपद्रवी सड़कों पर उतरे और प्रदर्शन के साथ आगजनी तक हुई.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *