Mon. Jan 30th, 2023

लैमार्कड्रोमिया बीगल केकड़े दूसरे जीव के स्पंज को अपने पंजों से काटते हैं और फिर उसे अपने शरीर के आकार के अनुसार बना लेते हैं.


Jul 02, 2022 | 2:26 PM

TV9 Hindi

| Edited By: निलेश कुमार

Jul 02, 2022 | 2:26 PM




Crab Special Species Lamarckdromia Beagle: रंग बदलने वाले गिरगिट के बारे में तो आपने खूब पढ़ा-सुना होगा! बहुत सारे लोगों ने गिरगिट को रंग बदलते हुए देखा भी होगा! लेकिन क्या आप किसी ऐसे जीव के बारे में जानते हैं, जो अपना भेष बदलकर दुश्मनों को चकमा देता है. आपको जानकर आश्चर्य होगा कि यह जीव एक केकड़ा है. पश्चिमी ऑस्‍ट्रेलिया में पाई गई केकड़े की इस प्रजाति को लैमार्कड्रोमिया बीगल नाम दिया गया है.

Crab Special Species Lamarckdromia Beagle: रंग बदलने वाले गिरगिट के बारे में तो आपने खूब पढ़ा-सुना होगा! बहुत सारे लोगों ने गिरगिट को रंग बदलते हुए देखा भी होगा! लेकिन क्या आप किसी ऐसे जीव के बारे में जानते हैं, जो अपना भेष बदलकर दुश्मनों को चकमा देता है. आपको जानकर आश्चर्य होगा कि यह जीव एक केकड़ा है. पश्चिमी ऑस्‍ट्रेलिया में पाई गई केकड़े की इस प्रजाति को लैमार्कड्रोमिया बीगल नाम दिया गया है.

इस केकड़े का नाम मॉडर्न साइंस के जनक चार्ल्स डार्विन के जहाज एचएमएस बीगल के नाम पर रखा गया है. इसी जहाज से वर्ष 1831 से 1836 के बीच अपनी दूसरी यात्रा के दौरान डार्विन ने प्राकृतिक चयन का सिद्धांत दिया था. पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के दक्षिणी तट पर ले जाया गया था, जहां से यह केकड़ा मिला है.

इस केकड़े का नाम मॉडर्न साइंस के जनक चार्ल्स डार्विन के जहाज एचएमएस बीगल के नाम पर रखा गया है. इसी जहाज से वर्ष 1831 से 1836 के बीच अपनी दूसरी यात्रा के दौरान डार्विन ने प्राकृतिक चयन का सिद्धांत दिया था. पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के दक्षिणी तट पर ले जाया गया था, जहां से यह केकड़ा मिला है.

पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के बीच पर एक परिवार को मिला, जिसके बाद इसकी पहचान के लिए इसे स्थानीय म्यूजियम भेज दिया गया. वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया म्यूजियम के रिसर्चर डॉ एंड्रू होजी के मुताबिक, लैमार्कड्रोमिया बीगल नाम की यह प्रजाति स्पंज क्रैब्स फैमिली का सदस्य है. स्पंज क्रैब्स के शरीर पर करीब 2 इंच लंबे बाल(फर) हो सकते हैं.

पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के बीच पर एक परिवार को मिला, जिसके बाद इसकी पहचान के लिए इसे स्थानीय म्यूजियम भेज दिया गया. वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया म्यूजियम के रिसर्चर डॉ एंड्रू होजी के मुताबिक, लैमार्कड्रोमिया बीगल नाम की यह प्रजाति स्पंज क्रैब्स फैमिली का सदस्य है. स्पंज क्रैब्स के शरीर पर करीब 2 इंच लंबे बाल(फर) हो सकते हैं.

वैज्ञानिकों के मुताबिक, यह केकड़ा बेहद शातिर होता है. इस केकड़े की पीठ पर मोटा स्पंज होता है, जिसका रंग केकड़े के रंग से अलग हो सकता है. यह इन्हें दुश्मनों और शिकारियों की नजर से बचाता है. यह केकड़ा दूसरे समुद्री जीवों के स्पंज का इस्तेमाल कर अपना रूप बदलता है. दूसरे स्पंज क्रैब्स की तुलना में इसके फर काफी लंबे होते हैं.

वैज्ञानिकों के मुताबिक, यह केकड़ा बेहद शातिर होता है. इस केकड़े की पीठ पर मोटा स्पंज होता है, जिसका रंग केकड़े के रंग से अलग हो सकता है. यह इन्हें दुश्मनों और शिकारियों की नजर से बचाता है. यह केकड़ा दूसरे समुद्री जीवों के स्पंज का इस्तेमाल कर अपना रूप बदलता है. दूसरे स्पंज क्रैब्स की तुलना में इसके फर काफी लंबे होते हैं.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, लैमार्कड्रोमिया बीगल केकड़े दूसरे जीव के स्पंज को अपने पंजों से काटते हैं और फिर उसे अपने शरीर के आकार के अनुसार बना लेते हैं. फिर स्पंज को ​पीछे के पैरों की मदद से अपनी पीठ पर लोड कर घूमते हैं. इस तरह वे दुश्मनों की नजर से बचते हैं.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, लैमार्कड्रोमिया बीगल केकड़े दूसरे जीव के स्पंज को अपने पंजों से काटते हैं और फिर उसे अपने शरीर के आकार के अनुसार बना लेते हैं. फिर स्पंज को ​पीछे के पैरों की मदद से अपनी पीठ पर लोड कर घूमते हैं. इस तरह वे दुश्मनों की नजर से बचते हैं.






Most Read Stories


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *