Wed. Feb 8th, 2023
Rain in Delhi मानसून की बारिश से खुली दिल्ली सिविक एजेंसियों की पोल, सड़के बनी तालाब; अगले 10 दिनों तक बरसात के आसार

मानसून की बारिश में नजफगढ़ की सड़क तालाब में बदल गई.

Image Credit source: Twitter (@madhavk37129986)

दिल्लीवासियों को मानसून की बारिश ने गर्मी से राहत दी है. मानसून की इस बारिश ने ही सिविक एजेंसियों की पोल खोल दी. पिछले साल की तहर इस बार भी राजधानी के नजफगढ़ समेत कई इलाकों में जलभराव देखने को मिला.

चिलचिलाती गर्मी के बीच दिल्लीवासियों को मानसून (Monsoon) की बारिश ने राहत दी है. जुलाई के पहले दिन ही यानी शुक्रवार सुबह से रुक-रुक कर हो रही बारिश ने मौसम सुहाना बना दिया है. भारतीय मौसम विभाग ने अपने ताजा अपडेट में कहा है कि आज भी दिल्ली में जमकर बादल बरसेंगे. जिसके चलते अलर्ट भी जारी कर दिया गया है. मौसम विभाग की मानें तो, अगले 10 दिनों तक भारी बारिश के आसार हैं. आपको बता दें कि 15 जुलाई से सावन का महीना शुरू होने को है. वहीं, मानसून की इस बारिश ने ही सिविक एजेंसियों की पोल खोल दी. पिछले साल की तहर इस बार भी राजधानी के नजफगढ़ समेत कई इलाकों में जलभराव देखने को मिला, इस साल जलभराव उन स्थानों पर एक बार फिर हुआ, जहां पहले भी होता रहा है, लेकिन एजेंसियों ने कोई सबक नहीं लिया.

वहीं, दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्वीट कर लोगों से ऐसे रास्तों से बचने की अपील की है. दिल्ली-एनसीआर की 100 से अधिक सड़कों और गलियों में पानी भर गया है, जिससे वाहन चालकों के साथ पैदल चलने वालों को भी दिक्कत हो रही है. दिल्ली के आइटीओ, मधुबन चौक, आश्रम समेत 50 से अधिक जगहों पर जलभराव से वाहनों की रफ्तार धीमी है. बता दें, बीते दिन यानी गुरुवार को भी दिल्ली-एनसीआर में सुबह से ही धीमी-धीमी बारिश जारी रही.

जाम से झूझ रही दिल्ली

धीमी-धीमी हो रही बारिश के चलते दिल्ली में वाहनों की रफ्तार भी धीमी हो गई है. कई सड़कों पर जाम की स्थिति बनी हुई है. बता दें, बीते दिन गुरुवार को हुई दिल्ली में बारिश से दिल्ली-एनसीआर में लुटियंस दिल्ली से लेकर दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे, आइटीओ, कश्मीरी गेट, गुरुग्राम, नोएडा, गाजियाबाद समेत अन्य इलाकों में कई घंटे लोग जाम में फंसे रहे. इसके चलते यातायात नियंत्रित करने में दिल्ली पुलिस के छूटे पसीने छूट गए.

ये भी पढ़ें



सड़कों बनी तालाब

वहीं, मानसून की इस बारिश ने ही सिविक एजेंसियों की पोल खोल दी. पिछले साल की तहर इस बार भी राजधानी के नजफगढ़ समेत कई इलाकों में जलभराव देखने को मिला, इस साल जलभराव उन स्थानों पर एक बार फिर हुआ, जहां पहले भी होता रहा है, लेकिन एजेंसियों ने कोई सबक नहीं लिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *