Wed. Feb 8th, 2023
Ravindra Jadeja ने भी इंग्लैंड को छकाया, बर्मिंघम टेस्ट में जबरदस्त शतक जमाया

रवींद्र जडेजा ने टेस्ट करियर का तीसरा और इंग्लैंड के खिलाफ पहला शतक लगाया.

Image Credit source: PTI

रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) से पहले इस टेस्ट में ऋषभ पंत ने भी शतक जमाया था और दोनों ने 222 रनों की साझेदारी की थी. एक टेस्ट पारी में बाएं हाथ के दो भारतीय बल्लेबाजों के शतक का ये सिर्फ तीसरा मामला है.

भारतीय क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) ने इंग्लैंड के खिलाफ बर्मिंघम टेस्ट में शानदार शतक जमा दिया है. एजबेस्टन क्रिकेट ग्राउंड में खेले जा रहे इस पांचवें टेस्ट के दूसरे दिन, जडेजा ने पहले सेशन में ही अपना शतक पूरा करते हुए भारतीय टीम को मजबूत स्कोर की ओर पहुंचाया. रवींद्र जडेजा ने अपनी जुझारू पारी के दौरान 183 गेंदों में शतक पूरा किया, जो उनके करियर का तीसरा शतक है. खास बात ये है कि विदेशी जमीन पर उनका ये पहला शतक है और वह भी ऐसी स्थिति में लगाया जब भारतीय टीम ने 98 रन पर 5 विकेट गंवा दिए थे और फिर वह बैटिंग के लिए आए थे.

ब्रॉड पर चौके जमाकर शतक पूरा

शनिवार 2 जुलाई को टेस्ट के दूसरे दिन जडेजा ने 83 रन के स्कोर से आगे खेलना शुरू किया. उनके साथ मोहम्मद शमी थे, जो बखूबी साथ देते हुए क्रीज पर जमे रहे और अपने विकेट को बचाए रखा. फिर 79वें ओवर में जडेजा ने ब्रॉड की गेंदों पर लगातार दो चौके जमाते हुए अपना तीसरा टेस्ट शतक पूरा कर लिया. अपने शतक तक पहुंचने के लिए जडेजा ने 183 गेंदों का सामना किया, जिसमें 13 चौके उनके बल्ले से निकले.

भारत से बाहर पहला शतक, दमदार साझेदारियां

जडेजा का भारत से बाहर और इंग्लैंड के खिलाफ ये पहला टेस्ट शतक है. इससे पहले उन्होंने श्रीलंका और वेस्टइंडीज के खिलाफ शतक जमाए थे, जो भारत में ही आए थे. वह आखिरकार 189 गेंदों में 104 रन की यादगार पारी खेलकर आउट हुए. जेम्स एंडरसन ने उन्हें बोल्ड किया. हालांकि, आउट होने से पहले ही वह टीम के लिए अपना काम कर चुके थे. जिस वक्त वह आउट हुए, तब भारत का स्कोर 8 विकेट पर 375 रन हो गया था. जडेजा ने पहले ऋषभ पंत के साथ 222 रनों की जबरदस्त साझेदारी की थी, फिर आज मोहम्मद शमी के साथ 48 रनों की अहम पार्टनरशिप की.

ये भी पढ़ें



15 साल बाद दोहराया कमाल

पंत के बाद जडेजा के इस शतक की एक खासियत ये है कि भारतीय क्रिकेट के इतिहास में ये सिर्फ तीसरा मौका है, जब एक टेस्ट पारी में बाएं हाथ के दो बल्लेबाजों ने शतक लगाया है. इससे पहले 1999 में न्यूजीलैंड के खिलाफ अहमदाबाद में सदगोपन रमेश (110) और सौरव गांगुली (125) ने शतक जमाए थे. फिर 2007 में पाकिस्तान के खिलाफ बेंगलुरू में गांगुली (239) और युवराज सिंह (169) ने शतक ठोके थे. जडेजा के बाद इस टेस्ट के लिए भारतीय टीम के कप्तान बने जसप्रीत बुमराह ने ताबड़तोड़ 31 रन बनाकर टीम को 412 रन के स्कोर तक पहुंचाया. बुमराह ने स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ही ओवर से वाइड-नोबॉल समेत कुल 35 रन बटोरकर विश्व रिकॉर्ड बना दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *