Wed. Feb 8th, 2023
Udaipur Case: आचार्य प्रमोद ने अपनी ही सरकार पर उठाया सवाल तो कांग्रेस ने याद दिलाई 'लक्ष्मण रेखा', कहा- एक बार सोच तो लेते

उदयपुर में टेलर (बीच में) की हत्‍या करने वाला रियाज मोहम्मद अत्तारी और गौस अहमद.

Image Credit source: Twitter

उदयपुर हत्याकांड पर पुलिस अफसरों पर कार्रवाई नहीं किए जाने पर सवाल उठाते हुए आचार्य प्रमोद ने पूछा, “एसएसपी, डीआईजी के खिलाफ अब तक कार्रवाई क्यों नहीं की गई.” साथ ही पूछा- क्या राजस्थान में कांग्रेस सरकार का इकबाल पूरी तरह से खत्म हो गया है.

उदयपुर हत्याकांड (Udaipur Murder Case) के मामले में कार्रवाई को लेकर कांग्रेस के नेता आपस में ही उलझ गए. उदयपुर में कल बुधवार को एक टेलर की सरेआम हत्या के बाद अशोक गहलोत सरकार की कार्रवाई पर सवाल उठाने वाली टिप्पणी के लिए कांग्रेस ने अपने ही नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम (Acharya Pramod Krishnam) को फटकार लगाते हुए कहा कि उनकी टिप्पणी तथ्यों से रहित है और उन्हें “लक्ष्मण रेखा” (Lakshman Rekha) पार करने से पहले कम से कम एक बार इस पर विचार करना चाहिए था.

राजस्थान के उदयपुर में दो दिन पहले दो लोगों ने टेलर कन्हैया लाल की उसकी ही दुकान में घुसकर हत्या कर दी और एक वीडियो में गुनाह कबूल करते हुए कहा कि वे “इस्लाम के अपमान” का बदला ले रहे हैं. आचार्य कृष्णम ने एक ट्वीट में गहलोत सरकार की कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए पूछा कि धमकी मिलने के बावजूद कन्हैया को सुरक्षा मुहैया क्यों नहीं कराई गई और आरोप लगाया कि हत्यारों के साथ-साथ पुलिस और प्रशासन भी इसके लिए समान रूप से जिम्मेदार है.

आचार्य कृष्णम ने उठाया सवाल

जयराम रमेश ने याद दिलाई “लक्ष्मण रेखा”

पुलिस अफसरों पर कार्रवाई नहीं किए जाने पर सवाल उठाते हुए आचार्य प्रमोद ने पूछा, “एसएसपी, डीआईजी के खिलाफ अब तक कार्रवाई क्यों नहीं की गई.” उन्होंने यह भी पूछा कि क्या राजस्थान में कांग्रेस सरकार का इकबाल पूरी तरह से खत्म हो गया है.

हालांकि कृष्णम की टिप्पणी पर उनको निशाने पर लेते हुए, कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने उनसे ट्विटर पर कहा कि उन्हें दूसरी बार “लक्ष्मण रेखा” पार करने से पहले कम से कम एक बार इस पर विचार करना चाहिए था. रमेश ने कृष्णम के ट्वीट को टैग करते हुए कहा, “आपने जो लिखा है वह तथ्यों से बहुत परे है.”

आचार्य कृष्णम की टिप्पणी पर कांग्रेस पहले भी फंस चुकी

पिछले हफ्ते भी कांग्रेस ने आचार्य कृष्णम की इस टिप्पणी “महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को सीएम पद छोड़ने में एक पल भी देरी नहीं करनी चाहिए” से खुद को दूर कर लिया था और कहा था कि ये न तो पार्टी के विचार हैं और न ही वह अधिकृत प्रवक्ता हैं.

साथ ही कांग्रेस ने उदयपुर हत्याकांड को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक की सराहना करते हुए कहा कि वह लोकतांत्रिक परंपराओं और आदर्शों का संकट के समय में भी मजबूती से पालन करती है. पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने ट्वीट किया, सर्वदलीय बैठक बुलाकर और ईमानदारी से सभी दलों के सुझावों को सुनकर सीएम गहलोत ने विश्वास और शांति को बढ़ाने का एक रास्ता दिखाया है.

इनपुट-एजेंसी/भाषा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *