Tue. Feb 7th, 2023
Udaipur Murder: कन्हैया लाल की हत्या में दो नहीं 5 लोग थे शामिल, भागने के लिए बाहर खड़ी की थी स्कूटी

उदयपुर हत्याकांड का आरोपी मोहम्मद रियाज (बाएं) और गौस मोहम्मद (फाइल फोटो)

उदयपुर में दर्जी कन्हैयालाल की हत्या के मामले में जांच में बड़ा खुलासा हुआ है. पुलिस सूत्रों का कहना है कि हत्या में पकड़े गए गौस और रियाज के अलावा तीन और लोग शामिल थे.

राजस्थान के उदयपुर में दर्जी कन्हैया लाल की हत्या (Udaipur Murder Case) के मामले में जांच जारी है. इसके साथ ही मामले में नए-नए खुलासे हो रहे हैं. पुलिस सूत्रों के मुताबिक हत्या में 5 लोग शामिल थे (Kanahiya Lal Murder Case Update). इसके साथ ही हत्या के आरोपी गौस मोहम्मद और रियाज अत्तारी का भागने का प्लान था. पुलिस सूत्रों (Rajasthan Police) का कहना है कि कन्हैया लाल की दुकान से थोड़ी दूर पर एक स्कूटी खड़ी थी. अगर दोनों हत्यारें नहीं पकड़े जाते तो प्लान में शामिल 3 लोग भागने में मदद करते. गौस और रियाज से पूछताछ के बाद पुलिस ने 3 और को गिरफ्तार किया है.

घटना के बाद से पुलिस शहर में भी पूरी एहतियात बरत रही है. वहीं शनिवार को उदयपुर के साथ 5 जिलों में बंद का ऐलान किया. शहर में रविवार तक इंटरनेट बंद रहेगा. कहा जा रहा है कि सोमवार से उदयपुर में इंटरनेट शुरू होने की उम्मीद है. इधर शुक्रवार को राजस्थान सरकार ने उदयपुर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अशोक मीणा को निलंबित कर दिया. गृह विभाग के संयुक्त सचिव (पुलिस) जगवीर सिंह की ओर से जारी निलंबन आदेश में इसका कोई कारण नहीं बताया गया है. हालांकि ऐसा माना जा रहा है उन्हें दर्जी कन्हैयालाल की हत्या के मामले में लापरवाही के आरोप में निलंबित किया गया है. इससे पहले उदयपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक और जिला पुलिस अधीक्षक का गुरुवार देर रात तबादला कर दिया गया था.

NIA आज बढ़ाएगी अपनी जांच का दायरा

उदयपुर में दर्जी कन्हैयालाल की मंगलवार दोपहर रियाज अख्तरी और गौस मोहम्मद ने चाकू से हमला कर हत्या कर दी थी. आरोपियों ने अपराध का ऑनलाइन वीडियो पोस्ट कर दर्जी कन्हैयालाल का सिर काटकर हत्या करने का दावा किया. दोनों आरोपियों को घटना के कुछ घंटों बाद राजसमंद के भीम क्षेत्र से पकड़ लिया गया. इधर कहा जा रहा है कि शनिवार को NIA कन्हैया लाल हत्याकांड में अपनी जांच को उदयपुर से समेटकर अन्य स्थानों पर ले जा सकती है. दरअसल इस मामले में NIA की टीम ने शहर में जमीनी स्तर पर काफी जांच कर ली है. इंटरनेशनल एंगल और कट्टरपंथियों से जुड़े अपराधियों के कनेक्शन को लेकर अब NIA अपनी जांच दिल्ली या अन्य जगहों से कर सकती है. वहीं ATS और SIT अपनी जांच बरकरार रखेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *