Tue. Feb 7th, 2023
Weather: देश के कई हिस्सों में मानसून की एंट्री के बाद सुहाना हुआ मौसम, आज भी इन राज्यों में भारी बारिश के आसार, जानिए अपने शहर का हाल

देश के कई राज्यों में भारी बारिश की संभावना

Image Credit source: PTI

Weather Rain Update Hindi: उत्तर भारत के कई राज्यों में मानसून की पहली बारिश हुई है, जिससे यहां का मौसाम सुहाना हो गया है. आज भी कई जगह बारिश होने की संभावना जताई गई है.

देश के अधिकतर राज्यों में इस समय भारी बारिश (Heavy Rain in Norther States) हो रही है. दक्षिण पश्चिम मानसून बीते 24 घंटों के दौरान उत्तर भारत के कई राज्यों तक पहुंच गया है. गुरुवार को दिल्ली एनसीआर में मानसून (Monsoon) की पहली बारिश हुई. जिससे बहुत से इलाकों में जलभराव हो गया है. मानसून उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, लद्दाख, हरियाणा, चंडीगढ़ और पंजाब तक भी पहुंच गया है. भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने आज भी कई राज्यों में भारी बारिश की आशंका जताई है. उसने कहा है कि गरज और बिजली कड़कने के साथ ही उत्तराखंड, हरियाणा-चंडीगढ़-दिल्ली, पंजाब, उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान और हिमालच प्रदेश में आज यानी 1 जुलाई को मध्यम से भारी बारिश हो सकती है.

आज हिमाचल प्रदेश, पंजाब, उत्तर प्रदेश और पश्चिमी राजस्थान में भारी बारिश होने के आसार हैं, जबकि हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली में ऐसा 2 जुलाई तक हो सकता है. पूर्वी राजस्थान में 3 जुलाई तक बारिश होगी. उत्तराखंड में अगले चार से पांच दिनों के दौरान भारी बारिश होने की आशंका है. मौसम विभाग ने अगले पांच दिनों के दौरान मध्य प्रदेश, विदर्भ और छत्तीसगढ़ में छिटपुट गरज के साथ भारी, हल्की से मध्यम बारिश या बिजली गिरने की आशंका जाहिर की है. बिहार, झारखंड, ओडिशा और गंगीय पश्चिम बंगाल में भी इसी तरह का मौसम रहेगा.

झारखंड और बिहार में बारिश के आसार

आईएमडी ने अपने बुलेटिन में कहा है, 30 जून और 1 जुलाई को झारखंड में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा की संभावना है. 30 जून से 02 जुलाई के दौरान बिहार, 30 जून को गंगीय पश्चिम बंगाल और अगले 5 दिनों के दौरान ओडिशा में बारिश हो सकती है. 4 जुलाई को ओडिशा में भी भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है. वहीं भारी बारिश के कारण दिल्ली के कई हिस्सों जैसे आईटीओ, बारापुला, रिंग रोड और राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं, विशेष रूप से दिल्ली-नोएडा सीमा, चिल्ला बॉर्डर, यूपी गेट, दिल्ली-गुरुग्राम सड़क पर भारी जाम लग गया था.

अन्य राज्यों की बात करें, तो राजस्थान में मानसून ने सामान्य से आठ दिन की देरी से गुरुवार को पूर्वी राजस्थान के कोटा और भरतपुर संभाग से दस्तक दी. 24 घंटों के दौरान पूर्वी राजस्थान के भतरपुर, दौसा, अलवर, बारां व जयपुर जिलों में कहीं कहीं भारी बारिश दर्ज की गई. पूर्वी राजस्थान में सर्वाधिक बारिश दौसा के लावन में 100 मिलीमीटर दर्ज की गई. जयपुर मौसम केंद्र के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि आमतौर पर राजस्थान में मानसून का प्रवेश दक्षिण पूर्वी हिस्सों के कोटा और उदयपुर संभाग से होता है लेकिन इस बार दक्षिण राजस्थान से न होकर पूर्वी राजस्थान के अलवर, कोटा और भरतपुर से मानसून ने प्रवेश किया है.

ये भी पढ़ें



उत्तर प्रदेश के अनेक हिस्सों में गुरुवार को ‘देर आयद दुरुस्त आयद’ की तर्ज पर जमकर मानसूनी बारिश हुई. भीषण गर्मी के लंबे दौर के बाद हुई झमाझम बारिश ने लोगों को खासी राहत दी. राजधानी लखनऊ, बाराबंकी और कई अन्य जिलों में सुबह से ही रिमझिम बारिश का सिलसिला शुरू हो गया और कहीं-कहीं कुछ वक्त के लिए भारी वर्षा भी हुई. बारिश के कारण दिन के तापमान में काफी गिरावट हुई, जिससे लोगों को भीषण गर्मी से काफी राहत मिली. मौसम विभाग ने प्रदेश में अभी एक-दो दिन और अनेक स्थानों पर बारिश होने की संभावना व्यक्त की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *